काशीपुर की घटना कहीं परिकल्पित तो नहीं ? तृणमूल ने उठाया सवाल

कहा : क्या शाह राजनीतिक ज्योतिष हैं ?
उन्हें कैसे पता, यह राजनीतिक हत्या का मामला है
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : काशीपुर में भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ता अर्जुन चौरसिया की मौत को लेकर राज्य में राजनीति गरमा गयी है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कोलकाता में हैं, घटनास्थल पर भी वे पहुंचे थे। इस मुद्दे को लेकर तृणमूल ने सवाल उठाया है कि कहीं यह घटना परिकल्पित तो नहीं। राज्य की मंत्री व पार्टी प्रवक्ता चंद्रिमा भट्टाचार्य और डॉ. शशि पांजा ने ऐसे सवालों को उठाते हुए कहा कि क्या अमित शाह राजनीतिक ज्योतिष हैं? उन्हें कैसे पता चला कि यह राजनीतिक हत्या का मामला है।
भाजपा जा सकती है कोर्ट, हम सम्मान करते हैं
शाह कह रहे हैं कि मामले को लेकर वे कोर्ट में जाएंगे। हम कोर्ट और उसके फैसले का पूरा सम्मान करते हैं। भाजपा बंगाल में हर घटना काे राजनीतिक रंग देने की कोशिश करती है। काशीपुर की इस घटना के साथ भी ऐसा ही हो रहा है। भाजपा आरोप लगा रही है कि कोलकाता पुलिस शव को छीनने की कोशिश कर रही है। मामला हत्या का है या आत्महत्या का, यह जांच का विषय है जिसकी एक प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया में खुद भाजपा रोड़ा डाल रही है। जैसे उन्हें मालूम हो कि पुलिस शव लेने आयेगी, इसलिए मंशा के तहत उन लोगों ने शव को कब्जे में रखा ताकि पुलिस को छीनने की आवश्यकता पड़े।
सुधरने की जरूरत ममता को नहीं, शाह को है
चंद्रिमा ने कहा कि अमित शाह कह रहे हैं कि एक साल हो चुके, मगर ममता बनर्जी सुधरी नहीं हैं। उन्हें सुधरने की जरूरत है, ऐसा कहने वाले अमित शाह गोधरा कांड के बाद क्या सुधर गये हैं ? यह जानने की जरूरत है।
किसी भी मृत्यु का समर्थन हम नहीं करते
चंद्रिमा ने कहा कि हम किसी भी तरह की मृत्यु का समर्थन नहीं करते हैं। भाजपा आरोप लगाती है कि बंगाल में अशांति है जबकि बंगाल जैसा शांत राज्य पूरे देश में नहीं है। यहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुद सभी मामलों को देखती हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

26 जून को सिलीगुड़ी महकमा व राज्य के 6 वार्डों में उपचुनाव

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बुधवार को राज्य चुनाव आयोग के कार्यालय में राज्य के गृह सचिव बी.पी. गोपालिका के साथ राज्य चुनाव आयुक्त सौरभ दास के आगे पढ़ें »

ऊपर