अंतरराष्ट्रीय नकली पासपोर्ट व विजा बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़

दिल्ली पुलिस ने हरिदेवपुर से गिरोह के मुख्य सरगना को किया गिरफ्तार
अभियुक्त के पास से 82 पासपोर्ट, नकली होलो ग्राम, लैपटॉप और प्रिंटर जब्त
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महानगर में नकली अंतरराष्ट्रीय विजा और पासपोर्ट बनाने वाले गिरोह का दिल्ली पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। द‌िल्ली पुलिस ने हरिदेवपुर थाने के साथ मिलकर संयुक्त अभियान चलाकर गिरोह के मुख्य सरगना को गिरफ्तार किया है। अभियुक्त का नाम नंदकिशोर प्रसाद है। पुलिस ने उसे हरिदेवपुर के महात्मा गांधी रोड स्थित शिवानी अपार्टमेंट से गिरफ्तार किया है। अभियुक्त के पास से 82 पासपोर्ट जब्त किये गये हैं। इनमें से 10 नेपाल के पासपोर्ट हैं। इसके अलावा अभियुक्त के पास से नकली रबर स्टैंप, भारत सरकार का नकली होलोग्राम, लैपटॉप, कलर प्रिंटर और नोट गिनने वाली मशीन जब्त की गयी है। शनिवार को अभियुक्त नंदकिशोर प्रसाद को अलीपुर कोर्ट में पेश करने पर उसे ट्रांजिट रिमांड पर भेज दिया गया।
क्या है पूरा मामला
जानकारी के अनुसार दिल्ली के चाणक्यपुरी थाने में दर्ज एक धोखाधड़ी के मामले में हरिदेवपुर से नंदकिशोर प्रसाद को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार कुछ महीने पहले दिल्ली के रहनेवाले सिविल इंजीनियर ओमप्रकाश को रसिया में नौकरी का अवसर मिला था। ओमप्रकाश ने रसिया के विजा के लिए दूतावास में जाकर अधिकारियों से संपर्क किया। हालांकि कोरोना काल के कारण उसे विजा नहीं मिला। विजा नहीं बनाने पर ओमप्रकाश की नौकरी चली जाएगी, यह सोचकर ओमप्रकाश परेशान हो गया। इस बीच संजीव अरोड़ा नामक व्य‌क्त‌ि से ओमप्रकाश की पहचान हुई।
संजीव ने 65 हजार रुपये देने पर ओमप्रकाश को विजा बनाकर देने का वादा किया। आरोप है कि ओमप्रकाश से रुपये लेने के बाद संजीव ने उसे नकली विजा का स्कैन किया हुआ कॉपी थमा दिया। रसिया जाने से एक दिन पहले ओमप्रकाश को असली विजा देने की बात संजीव ने कही थी। हालांकि उस दिन भी विजा हाथ में नहीं मिलने पर ओमप्रकाश को पता चला गया कि वह ठगी का शिकार हुआ है। इसके बाद दूतावास में जाने पर पता चला कि उसे ठगों के गिरोह ने चूना लगाया है। इसके बाद ही ओमप्रकाश ने चाणक्यपुरी थाने में अभियुक्तों के खिलाफ ठगी की शिकायत दर्ज करायी। ओम प्रकाश की श‌िकायत के आधार पर दिल्ली पुलिस ने मामले की जांच शुरू की। कुछ दिनों पहले मोबाइल टॉवर लोकेशन ट्रेस कर उत्तर 24 परगना जिले से दिल्ली पुलिस ने संजीव अरोड़ा को गिरफ्तार किया था। उसे दिल्ली ले जाकर पूछताछ करने पर नंदकिशोर प्रसाद का नाम सामने आया। जांच में पता चला कि हरिदेवपुर के एमजी रोड में फ्लैट किराये पर लेकर नंदकिशोर रहता है। इसके बाद ही दिल्ली पुलिस ने हरिदेवपुर थाने की पुलिस की मदद से अभियुक्त नंदकिशोर को गिरफ्तार किया। पुलिस के अनुसार डेढ़ साल पहले ही नंदकिशोर की शादी हुई थी। उसकी पत्नी अभी भी मानने को तैयार नहीं है कि उसका पति ठगी के गिरोह से जुड़ा हुआ है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शोभन का घर खरीदा वैशाखी ने, रत्ना को सम्मान से घर छोड़ने को कहा

रत्ना ने कहा, हिम्मत है तो निकाल के दिखाये, मरुंगी भी इसी घर में सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : केएमसी के पूर्व शोभन चटर्जी इन दिनों आर्थिक तंगी आगे पढ़ें »

ऊपर