कोलकाता में बनकर तैयार है देश की पहली अंडरवाटर मैट्रो सुरंग

metro

कोलकाता : देश की पहली अंडरवाटर मैट्रो सुरंग कोलकाता में बनकर तैयार हो गई है। कोलकाता मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (केएमआरसी) की पूर्व-पश्चिम परियोजना के तहत कोलकाता की हुगली नदी के नीचे बनाई गई यह सुरंग कोलकाता और हावड़ा को जोड़ेगी। इसमें रेल ट्रैक बिछाने का काम तेजी से पूरा किया जा रहा है। इस परियोजना को मार्च 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस सुरंग में 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से मेट्रो ट्रेन दौड़ पाएगी जिसमें करीब 9 लाख लोग रोज सफर कर पाएंगे।

दो चरणों में बांटी गई परियोजना

कोलकाता मेट्रो की पूर्व-प‌श्चिम परियोजना करीब 16 किलोमीटर लंबी है और सॉल्ट लेक स्टेडियम से हावड़ा मैदान तक फैली है। इस परियोजना को दो चरणों में पूरा किया जा रहा है। पहले चरण के तहत सॉल्ट लेक सेक्टर-5 से सॉल्ट लेक स्टेडियम​ के बीच 5.5 किमी लंबा मैट्रो ट्रैक बिछाया रहा है। इस लाइन पर करुणामयी, सेंट्रल पार्क, सिटी सेंटर और बंगाल केमिकल मेट्रो स्टेशन मौजूद हैं। वहीं, दूसरे चरण के तहत 11 किलोमीटर लंबा अंडरग्राउंड मेट्रो ट्रैक बिछाया जा रहा है।

तीन सुरक्षा कवच से रोका गया पानी

नदी के अंदर इस मैट्रो सुरंग के निर्माण में रूस और थाइलैंड के विशेषज्ञों से सलाह ली गई है। इस सुरंग में नदी के पानी का दबाव झेलने व पानी के रिसाव को रोकने के‌ लिए विश्वस्तरीय तकनीक का प्रयोग किया गया है। तकनीक के तहत पानी के रिसाव को रोकने के लिए तीन स्तर के सुरक्षा कवच तैयार किए गए हैं।

2009 से परियोजना पर कार्य जारी

वर्ष 2009 में इस परियोजना पर काम शुरू किया गया था। वर्तमान रेलमंत्री पीयूष गोयल के कार्यकाल में भी ये काम काफी तेज़ी के साथ आगे बढ़ रहा है। इस लाइन के 2021 में शुरू होने की उम्मीद जताई जा रही है। यहां जाने और वापसी के लिए दो सुरंगों का निर्माण किया जा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आरएसएस प्रमुख की समझदारी पर सोनम ने उठाए सवाल, हुईं ट्रोल

नई दिल्ली : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत द्वारा तलाक को लेकर दिए गए बयान को फिल्म अभिनेत्री सोनम कपूर ने मूखर्तापूर्ण बताया है। सोनम ने आगे पढ़ें »

modis

मोदी और शाह को ‘आतंकवादी’ कहने पर मुस्लिम नेता के खिलाफ मामला दर्ज

सम्भल (उत्तर प्रदेश) : उत्तर प्रदेश में सम्भल जिले के नखासा क्षेत्र में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के विरोध में आगे पढ़ें »

ऊपर