पूजा के पहले ही कोविड के बढ़े मामले, अस्पतालों में बढ़ी भर्ती

सेकेंड डोज के बाद भी संक्रमित हो रहे लोग
कोलकाताः दुर्गापूजा के पहले ही राज्य में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने शुरू हो गए हैं। आलम यह है कि कई अस्पतालों में मरीजों की भर्ती बढ़नी शुरू हुई है। देबाशिष धर, ग्रुप वाइस प्रेसिडेंट, आईएलएस हॉस्पिटल्स ने कहा कि हम विशेष रूप से हमारे अस्पतालों में हाल के दिनों में कोविड के मामले देख रहे हैं। विशेषकर यह भी देखा जा रहा है ‌कि सेकेंड डोज लेने वाले लोगों में भी कोविड संक्रमण हो रहा है। जरूरत है कि लोग अब भी सतर्क रहें। सुपर्णा सेनगुप्ता (सीईओ, नारायण मेमोरियल हॉस्पिटल) ने कहा कि कोविड प्रोटोकॉल के तहत जो भी मरीज भर्ती के ‌लिए आते हैं, उनका टेस्ट किया जाता है। इस दौरान देखा जा रहा है कि काफी लोग कोविड संक्रमित होकर अस्पताल में आ रहे हैं। हालांकि यह मामले अधिक गंभीर नहीं हैं।
डॉक्टर संगठनों ने भी किया अलर्ट
वेस्ट बंगाल डॉक्टर्स फोरम की ओर से डॉ. पुण्यव्रत गुन ने कहा कि फिर से पूजा आ गया है। पिछले साल अदालत के प्रतिबंध के साथ पूजा में पर्याप्त संयम लोगों ने दिखाया। इसलिए त्योहार के बाद हमारे राज्य में कोरोना संक्रमण अनियंत्रित नहीं हुआ। जिन राज्यों में त्योहार मनाने में संयम नहीं था, वहां कोरोना संक्रमण बेकाबू था। हम अस्पतालों में बेड की कमी, ऑक्सीजन के लिए रोने और टालने योग्य मौत के भयानक तड़प को नहीं भूल सकते। इस बार भी हाईकोर्ट ने पूजा पंडालों में भीड़ नहीं करने की हिदायत दी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के चिकित्सक और चिकित्सा कर्मचारी भी तीसरी लहर या संक्रमणों की संख्या में वृद्धि को लेकर चिंतित हैं। यदि पूजा में भीड़ होती है, प्रतिबंधों का पालन नहीं किया जाता है, तो शायद हमें मार्च, अप्रैल जैसे दयनीय दिनों से गुजरना होगा। वेस्ट बंगाल डॉक्टर्स फोरम के डॉ. राजीव पाण्डेय ने कहा कि लोगों को कोविड से बचाव के लिए नियमों का लगातार पालन करना होगा। मॉस्क लगाकर ही भीड़ में निकलें। सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। देखा जा रहा है कि राज्य में अब भी बड़ी संख्या में लोगों को कोविड का टीका नहीं लगा है। यह नहीं कहा जा सकता है कि टीकाकरण से बीमारी नहीं होगी, लेकिन यदि टीका लगाया जाता है, तो कोविड कम गंभीर और कम घातक होगा। इस समय हमारे राज्य में संक्रमण दर 1.7 से 1.9% के बीच मँडरा रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कार्तिक मास का पहला शनिवार कब है? जानें इस दिन की तिथि ..

कोलकाता : कार्तिक मास का आरंभ हो चुका है। हिंदू कैंलेडर के अनुसार 21 अक्टूबर 2021, गुरुवार से कार्तिक मास आरंभ हो चुका है धर्म-कर्म आगे पढ़ें »

ऊपर