नयी कमेटी में तृणमूल से आये लोगों पर ही भरोसा जताया भाजपा ने

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोलकाता व हावड़ा नगर निगम चुनाव के लिए भाजपा ने चुनावी मैनेजमेंट कमेटी की घोषणा तो कर दी है, लेकिन इसके साथ ही इसे लेकर पार्टी में विवाद भी शुरू हो गया है। भाजपा नेताओं के एक वर्ग का कहना है कि इस बार भी भाजपा ने पुरानी गलती दोहरायी और नयी कमेटी में पुराने लोगों को हटाकर नये लोगों को अधिक अहमियत दी गयी। कोलकाता में चुनावी मैनेजमेंट कमेटी की जिम्मेदारी पूर्व केंद्रीय मंत्री व हाल में तृणमूल से भाजपा में आये दिनेश त्रिवेदी को दी गयी है। इसी तरह सह प्रभारियाें में वैशाली डालमिया और रुद्रनील घोष जैसे नाम हैं जो हाल में तृणमूल से भाजपा में शामिल हुए थे। इसके अलावा कमेटी में सजल घोष, सुब्रत ठाकुर, बंकिम घोष, सुशांत घोष जैसे नाम भी शुमार किये गये हैं जो तृणमूल, माकपा या कांग्रेस से भाजपा में आये थे। इसी तरह हावड़ा की कमेटी की बात करें तो यहां भी कुछ ऐसा ही हुआ है। यहां चुनावी मैनेजमेंट कमेटी का जिम्मा रथिन चक्रवर्ती को दिया गया है जो हावड़ा नगर निगम के मेयर रह चुके हैं। उनके अलावा मनोज पाण्डेय व सुप्रीति चटर्जी सह प्रभारी बनाये गये हैं जो कांग्रेस व तृणमूल से भाजपा में आये थे। वहीं जटू लाहिड़ी, बानी सिंघा राय, शीतल सरदार, सुदीप मुखर्जी जैसे नेता प्रचारक सदस्यों में शामिल किये गये हैं जो तृणमूल या दूसरी पार्टियों से भाजपा में आये थे।
कमेटी में भाजपा के पुराने नाम नदारद
कमेटी में भाजपा के कुछ पुराने नेताओं के नाम नदारद हैं। इनमें 2 बड़े नाम संजय सिंह और सायंतन बसु का है जो पिछले काफी समय से भाजपा से जुड़े हुए हैं। इस बारे में पूछे जाने पर कुछ भाजपा नेताओं ने तर्क दिया कि पदाधिकारियों को कमेटी में शामिल नहीं किया गया है जबकि प्रदेश उपाध्यक्ष राजू बनर्जी, प्रदेश महास​चिव ज्योतिर्मय सिंह महतो जैसे नाम कमेटी में रखे गये हैं। भाजपा के कद्दावर नेता और हावड़ा के वार्ड नं. 18 से पार्टी का झण्डा हमेशा ऊंचा रखने वाले प्रदेश भाजपा के महासचिव संजय सिंह का नाम क्यों कमेटी में शामिल नहीं किया गया, इसे लेकर पार्टी के ही कई नेता व कार्यकर्ता सवाल उठा रहे हैं। इस बारे में पूछे जाने पर संजय सिंह ने सन्मार्ग को बताया, ‘यह पूरी तरह पार्टी नेतृत्व का फैसला है कि किसे कमेटी में शामिल किया जाएगा, पार्टी जो काम देगी उसे पूरी निष्ठा के साथ करूंगा।’ किसी दूसरी पार्टी से संपर्क के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘भाजपा में जीता हूं और भाजपा में ही मरूंगा।’ उनकी बातों से ऐसा लगता है कि वह आहत तो जरूर हैं, लेकिन हिम्मत नहीं हारी और आज भी पार्टी के ​लिए खड़े हैं।
कहीं पुरानी गलती तो नहीं दोहरा रही भाजपा
पार्टी में चर्चा जोरों पर है कि विधानसभा चुनाव में जिस तरह भाजपा को हार का सामना करना पड़ा, उसके बाद अब कोलकाता और हावड़ा नगर निगम चुनाव में पार्टी को उम्मीदवार नहीं मिल रहे हैं और इस कारण काफी मुश्किल हो रही है। हालांकि गत विधानसभा चुनाव जैसी भूल पार्टी इस बार ना करे, इसे लेकर भी चर्चा है। पिछली बार तृणमूल से टिकट नहीं पाने वाले कई नेता भाजपा में शामिल हो गये थे। इनमें से कई हारने के बाद वापस तृणमूल में लौट गये हैं या फिर कई ऐसे हैं जो भाजपा में रहकर भी निष्क्रिय बैठ गये हैं। ऐसे में इस बार भी ऐसी कोई गलती ना हो, इसे लेकर सतर्क रहना होगा। इस बारे में पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘ये सच है कि निगम चुनाव में उम्मीदवारों की कमी खल रही है, लेकिन काफी सोच-समझकर उम्मीदवारों को उतारा जाएगा।’ वहीं इस बारे में प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष राजू बनर्जी ने सन्मार्ग से कहा, ‘अगर हमें उम्मीदवार नहीं मिलते तो हम चुनाव करवाने की बात नहीं करते। इस बार हम अत्यंत सूझ-बूझकर उम्मीदवारों का चयन करेंगे।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

तृणमूल की मतगणना समिति के सदस्य और उम्मीदवार पर भाजपा ने किया हमला

त्रिपुराः तेलियामुरा में अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस की मतगणना समिति के सदस्य रथिंद्र और वार्ड 14 के उम्मीदवार अभिरॉय दास पर मतगणना केंद्र से लौटते आगे पढ़ें »

कोरोना का अफ्रीकन वैरिएंट: जिन्हें वैक्सीन लग चुकी, उन पर अटैक करेगा या नहीं? पढ़ें सब कुछ

न्यूटाउनः पेड़ की कटाई देखने गये 9 साल के बच्चे की मौत

मुर्शिदाबाद: मां और दो बेटियों की आग में झुलसने से मौत

​त्रिपुराःआमबासा में तृणमूल से अकेले जीत हासिल करने वाले तृणमूल प्रार्थी सुमन पाल ने क्या कहा सुनिये…

मन की बात: मोदी बोले- मुझे सत्ता में रहने का आशीर्वाद….

त्रिपुराः आमबासा नगर निकाय की 15 में से 12 सीट पर खिला कमल, टीएमसी और माकपा

नदिया में हुई सड़क दुर्घटना में मौत पर गृहमंत्री ने जताया शोक

सिर्फ 3 तरीकों से घट जाएगा वजन, बिना डाइटिंग बनेंगे फैट टू फिट

पहले ही दिन प्रचार में उतरीं ममता की भाभी और मंत्री का बेटा

ऊपर