देगंगा में महिला ने दो बच्चों के साथ तालाब में कूदकर दे दी जान

पारिवारिक अशांति के कारण मानसिक अवसाद में थी महिला
मायकेवालों की शिकायत पर अभियुक्त पति व सास पकड़ाये
बारासात : पारिवारिक अशांति के कारण एक मां ने डेढ़ साल की बेटी व 5 साल के बेटे को लेकर तालाब में कूदकर जान दे दी। यह घटना बारासात अंचल के देगंगा थाना अंतर्गत नूरनगर ग्राम पंचायत के गांभीरगाछी घोषपाड़ा इलाके में घटी। मृतका का नाम सोनामणि घोष (26) है जबकि बेटे का नाम बुबाई घोष व बेटी का नाम वृष्टि घोष बताया गया है। पुलिस ने इस मामले में सोनामणि के मायकेवालों की शिकायत पर उसके पति बाबूलाल घोष व सास को गिरफ्तार किया है। मृतका के मायकेवालों का आरोप है कि सोनामणि का पति और उसकी सास उस पर शारीरिक व मानसिक अत्याचार किया करते थे। अभियुक्त आये दिन सोनामणि को गाली-गलौज करते हुए पीटता था। गरीब परिवार से होने के कारण वह अपनी परेशानियों को लेकर मायकेवालों के पास भी मदद के लिए नहीं जा पा रही थी। पड़ोसियों ने पुलिस को बताया कि बाबूलाल उसे पैसे लाने के लिए दबाव डालता था। वह उससे कुछ उल्टे-सीधे काम भी करवाना चाहता था जिस कारण वह महिला काफी अवसाद में थी। आरोप है कि इन सब कारणों को लेकर ही शुक्रवार की सुबह पुनः अभियुक्त व उसकी मां ने सोनामणि के साथ गालीगलौज करते हुए उसके साथ मारपीट की। इसके बाद ही उसने डेढ़ साल की बच्ची और बेटे को लेकर तालाब में छलांग लगा दी। स्थानीय कुछ लोगों ने उन्हें बचाने की को​शिश की मगर तब तक काफी देर हो गयी थी और पानी में डूबने से मां और बच्चों की जान चली गयी। इलाके के लोगों में इस घटना को लेकर भारी क्षोभ देखा गया। उन्होंने अभियुक्तों के विरुद्ध कठाेर कार्रवाई की मांग करते हुए क्षोभ जताया। बाद में देगंगा थाने की पुलिस ने वहां पहुंचकर मृतकों के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। साथ ही दोपहर में मृतका के परिवारवालों की शिकायत पर पुलिस ने अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया। अभियुक्तों को आज बारासात कोर्ट में पेश किया जायेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सुबह से ही दिख रहा है महानगर में गुलाब का असर

कोलकाता : मौसम विभाग की ओर से बताया गया कि म्यांमार तट पर निम्न दबाव बना है जिस कारण पश्चिम बंगाल के दक्षिणी जिलों में आगे पढ़ें »

ऊपर