विधानसभा चुनाव में सक्रिय होंगे अप्रवासी बंगाली

कोलकाता : पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में इस बार अप्रवासी बंगाली भी सक्रिय भूमिका निभाने वाले हैं। ये अप्रवासी बंगाली मूल रूप से भाजपा से जुड़े हुए हैं जो कि देश में होने वाले चुनावों में कई तरीकों से बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। सूत्रों के अनुसार, बुधवार को भाजपा नेता शिशिर बाजोरिया के घर पर इस संबंध में एक बैठक हुई जिसमें भाजपा के विदेश मामलों के प्रभारी विजय चौथाईवाले, पार्टी के सह सांगठनिक महासचिव शिवप्रकाश जी, भाजपा नेता कल्याण चौबे व अन्य मौजूद थे।

भाजपा के विदेश मामलों के प्रभारी ने कोलकाता में बैठक की

इस बारे में भाजपा सूत्रों ने बताया कि बैठक में इस बात पर चर्चा कि गयी कि पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव में किस तरह अप्रवासी बंगालियों को काम में लगाया जाए। इस बैठक में सेव बंगाल, प्रोफेशनल फॉर बंगाल के सदस्य भी मौजूद थे। पार्टी सूत्रों ने बताया कि राज्य में विधानसभा चुनाव से पहले अप्रवासी बंगालियों का बड़ा हिस्सा सक्रिय हो रहा है। ये अप्रवासी बंगाली अपने परिवार, बंगाल में रहने वाले अपने दोस्तों, सोशल मीडिया व अन्य माध्यमाें से भाजपा का प्रचार करेंगे।

2014 के लोकसभा चुनाव के समय एनआरआई 4 नमो और 2019 के समय में ओएफबी (ओवरसीज फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी) के सदस्य सक्रिय हुए थे। 2019 के लोकसभा चुनाव के समय लगभग 10,000 प्रवासी भारतीय देश के विभिन्न हिस्सों में आये थे जिन्होंने चुनाव प्रचार भी किया था।

यह कहा था चुनाव आयोग ने

गत सप्ताह चुनाव आयोग ने कानून मंत्रालय से कहा था कि पोस्टल बैलट के माध्यम से अप्रवासी भारतीयों द्वारा मतदान को लेकर आयोग तैयार है। आयोग की ओर यह भी कहा गया था कि अगले वर्ष पश्चिम बंगाल समेत अन्य राज्यो में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए एनआरआई मतदाताओं को इलेक्ट्रॉनिकली ट्रांसमिटेड पोस्टल बैलट सिस्टम भेजने के लिए वह ‘तकनीकी और प्रशासनिक तौर पर’ तैयार है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

नंदीग्राम में ममता की सभा में लाखों की भीड़ उमड़ने की उम्मीद

सन्मार्ग संवाददाता खड़गपुर/नंदीग्राम : नये वर्ष के दूसरे सप्ताह से ही तृणमूल सुप्रीमों और राज्य की मुख्यमंत्री जिलों के दौरे पर निकल रहीं हैं और उसकी आगे पढ़ें »

सांसद पड़े नरम, पहुंचे हावड़ा में आयोजित तृणमूल की रैली में

सौगत ने सांसद प्रसून को किया फोन अरूप राय के नेतृत्व में निकाली गयी रैली में प्रसून व भाष्कर भट्टाचार्य राजीव, लक्ष्मीरतन व वैशाली नहीं हुए शामिल हावड़ा आगे पढ़ें »

ऊपर