हावड़ा के अपार्टमेंट और मकानों में चलाया जा रहा है अवैध कॉल सेंटर

पुलिस की नजर से बचने के लिए फ्लैट को बनाया कार्यालय
कोई डुप्लेक्स फ्लैट तो कोई मकान के गैरज में बैठकर करता है ठगी
सन्मार्ग संवाददाता
हावड़ा : महानगर कोलकाता में अवैध कॉल सेंटर के खिलाफ कोलकाता पुलिस की ओर से लगातार छापामारी अभियान चलाया जा रहा है। वहीं विधाननगर पुलिस की ओर से भी लगातार न्यू टाउन और सॉल्टलेक के विभिन्न बड़े बिल्ड‌िंग में चलने वाले कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया जा रहा है। इस बीच हावड़ा के कॉल सेंटर के संचालकों ने अपना मॉडस ऑपरेंडी बदल लिया। खासतौर पर कोलकाता और विधाननगर पुलिस की छापामारी के बाद सॉल्टलेक और कोलकाता में कॉल सेंटर चलाने वाले कॉल सेंटर संचालकों ने हावड़ा के शिवपुर, डोमजूड़, लिलुआ, बेलूड़, बाली और उत्तरपाड़ा इलाके में अपना कार्यालय खोल लिया है। हावड़ा में चलने वाले नए कॉल सेंटरों में कोई डुप्लेक्स फ्लैट के अंदर चल रहा है तो कोई निजी मकान के गैराज में ही शाम के बाद ठगी का गोरखधंधा चलाते हैं। इन सभी कॉल सेंटर में काम करने वाले युवक अमरीका, यूके और ऑस्ट्रेलिया के नागरिकों को कंप्यूटर पर टेक सपोर्ट देने के नामपर ठगी करते हैं।
लग्जरियस लाइफस्टाइल के चक्कर में साइबर ठग बन रहे हैं युवा
लग्जर‌ियस लाइफस्टाइल के लिए शिक्षित युवा तत्काल और न्यूनतम रिस्क से पैसा कमाने के लिए साइबर ठग बन रहे हैं। यहां न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता की कोई जरूरत नहीं है, बस फर्राटेदार अंग्रेजी आनी चाहिए। ऐसे युवा साइबर ठगी गिरोह में शामिल होकर विदेशी ग्राहकों को चूना लगा रहे हैं। स्थानीय सूत्रों के अनुसार हावड़ा के कॉल सेंटरों में काम करने वाले अधिकतर युवा स्कूल व कॉलेज छात्र हैं। इन लोगों को कम वेतन और कमीशन के आधार पर रखा जाता है। कॉल सेंटरों में दो तरह के लोग मिलकर जालसाजी को अंजाम देते हैं। पहले फोन करके युवक ग्राहक का कंसोल लेते हैं। इसके बाद कॉल सेंटर का सुपरवाइजर या फिर क्लोजर उक्त कॉल को अपने कंट्रोल में लेकर ग्राहक के अकाउंट से रुपये गायब करता है। कोई बैंक अकाउंट में रुपये ट्रांसफर करता है तो कोई कैश कार्ड या विभिन्न ई-कॉमर्स कंपन‌ियों के गिफ्ट कार्ड के जरिए 400 से 500 डॉलर का पेमेंट लेकर लोगों को चूना लगाता हैं। हालांकि जालसाजों को प्रति डॉलर पर 40 रुपये ही मिलते हैं। अगर उन्होंने किसी बैंक अकाउंट में रुपये ट्रांसफर क‌िये तो ठगी की रकम की आधी रकम ही उन्हें मिलेगी। वहीं अगर कैश कार्ड या गिफ्ट कार्ड के जरिए ठगी की गयी तो 40 से 50 रुपये प्रति डॉलर तक हुंडी के जरिए जालसाजों तक पहुंचता है।
मोबाइल फोन के जरिए भी अमरीकी नागरिकों से करते हैं ठगी
सूत्रों की मानें तो अवैध कॉल सेंटरों पर पुलिस की दबिश के बाद जालसाजों ने काम करने का तरीका बदल लिया है। सूत्रों की मानें तो जालसाज अब मोबाइल फोपिर स्काइप एप के जरिए जरिए वॉयस कॉल कर अमरीकी नागरिकों को ठगरहे हैं। यह लोग खुद को अमरीका के आयकर विभाग और एफबीआई का अधिकारी बनकर लोगों को फोन करते हैं और कहते हैं कि उनके अकाउंट बेहिसाब रुपये हैं। ऐसे में उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। इसके मामले नहीं करने के एवज में जालसाज उक्त व्यक्ति से 20 हजार डॉलर से लेकर 2 लाख डॉलर एक बार में वसूल लेते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

फैट बर्न करके वजन घटा सकता है करी पत्ता

कोलकाता : आज हम आपके लिए लेकर आए हैं करी पत्ते के फायदे। करी पत्ता पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने और एनीमिया को दूर करने आगे पढ़ें »

ऊपर