आईआईटी रुड़की की टीम जल्द करेगी बहूबाजार का दौरा

कोलकाता : मध्य कोलकाता के बहूबाजार में ईस्ट-वेस्ट मेट्रो के लिए भूमिगत निर्माण के कारण आसपास के कई भवनों में दरारें आ गयीं। कोलकाता मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (केएमआरसीएल) के अधिकारियों ने कहा कि हावड़ा जाने वाली सुरंग के नीचे एक ‘ब्लाइंड स्पॉट’ को खोदने के लिए मिट्टी की खुदाई से पानी का रिसाव हुआ, जिसके कारण दरारें आयीं। 16.5 किलोमीटर ईस्ट वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर की कार्यान्वयन एजेंसी, जो सेक्टर V को हावड़ा मैदान से जोड़ेगी। केएमआरसीएल के अनुसार, दुर्घटना के कारण नौ इमारतों को नुकसान पहुंचा है। कोलकाता नगर निगम (केएमसी) के बिल्डिंग विभाग के अधिकारियों ने यह संख्या 13 बताई है। क्षति के प्रारंभिक आकलन के बाद, केएमआरसी के अधिकारियों ने दो इमारतों 16 और 16/1, दुर्गा पितुरी लेन को आंशिक रूप से ध्वस्त करने की अनुमति मांगी है क्योंकि उसमें मरम्मत करना संभव नहीं था, वे पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। सोमवार की शाम को 16/1 में तोड़फोड़ का काम शुरू हुआ। दूसरी इमारत के मालिक ने कथित तौर पर विध्वंस पर आपत्ति जताई है। दरारें अलग-अलग तरह की हैं। केेएमआरसीएल के अनुसार, अब तक 154 लोग विस्थापित हो चुके हैं। उन्हें होटलों में शिफ्ट कर दिया गया है। आवास और संबंधित खर्च केएमआरसीएल द्वारा वहन किया जा रहा है। बुधवार की रात 20 से अधिक ज्वेलर्स को अपनी दुकानें बंद करनी पड़ीं। पहले से कई एजेंसियों के साथ काम कर रही केएमआरसीएल ने आईआईटी रुड़की से मदद मांगी है। जल्द ही एक टीम के आने की उम्मीद है। केएमसी जादवपुर विश्वविद्यालय के सिविल इंजीनियरिंग विभाग से प्रोफेसरों को लाया है। केएमआरसीएल के एक अधिकारी ने कहा कि एक ठोस कार्य योजना पर निर्णय लेने से पहले जेयू टीम केएमआरसीएल से रिपोर्टों की एक शृंखला का अध्ययन करेगी। केएमसी और जेयू विशेषज्ञ नुकसान का आकलन कर रहे हैं और सिफारिश करेंगे कि क्या किया जाना चाहिए। भूमिगत काम के लिए, हम आईआईटी टीम की प्रतिक्रिया पर निर्भर होंगे। केएमआरसीएल के अधिकारियों ने कहा कि गुरुवार रात 10 बजे तक पानी का रिसना बंद हो गया लेकिन रिसाव को रोकने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला कंक्रीट अब एक चुनौती है। उन्होंने कहा कि द्रव्यमान की मात्रा लगभग 220 घन मीटर है और इसे हटाने में कम से कम कुछ महीने लगेंगे। कंक्रीट हटाने के बाद ही कोई और भूमिगत कार्य किया जा सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कोरोनाकाल भूल गया कुम्हारटोली, प्री कोविड वाली रौनक लौटने लगी

10 दिन पहले ही प्रतिमा आ जायेगी पंडालों में यूनेस्को ने बंगाल के दुर्गापूजा उत्सव को दिया है सांस्कृतिक विरासत का दर्जा एक नजर इस पर कोलकाता में आगे पढ़ें »

ऊपर