आईसीएमआर ने बंगाल को किया सतर्क

कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस को लेकर जिसका डर था, वही अब नजर आ रहा है। फेस्टिव सीजन में कोरोना वायरस के मामले हाल के दिनों में बढ़े हैं। देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। यहां तक कि मृत्यु दर में भी वृद्धि होने से हेल्थ एक्सपर्ट भी चिंतित हैं। दुर्गा पूजा के पहले ही वेस्ट बंगाल डॉक्टर्स फोरम, सर्विस डॉक्टर्स फोरम सहित कई संगठनों ने विशेष सतर्क रहने की सलाह दी थी। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए कहा था। दूसरी तरफ कई जगहों पर लोगों की लापरवाही साफ नजर आई। डॉ. एस. के. अग्रवाल ने कहा कि सड़कों पर देखा जा रहा है कि काफी लोग बिना मॉस्क के ही नजर आ रहे हैं, यही वजह है कि कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने कहा है कि पहले की अपेक्षा कोरोना का ग्राफ कम हुआ है, हालांकि खतरा बरकरार है। आईसीएमआर के अनुसार फेस्टिव सीजन में केरल, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, कर्नाटक और दिल्ली में कोरोना केस बढ़े हैं। इसलिए सभी को सतर्क रहना होगा। आईसीएमआर का कहना है कि बचाव के लिए कोविड-19 के नियमों का पालन अनिवार्य रूप से अब भी करना होगा।

कोरोना को लेकर मुख्य सचिव ने की रिव्यू बैठक
राज्यभर में कोरोना की परिस्थितियों को लेकर राज्य के मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय के नेतृत्व में एक रिव्यू बैठक हुई। इस बैठक में गृह सचिव एच के द्विवेदी, वित्त सचिव मनो​ज पंत, स्वास्थ्य विभाग के सचिव नारायण स्वरूप निगम, एमएसएमई विभाग के सचिव राजेश पांडे सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। इस दौरान पूरी स्थिति पर विस्तार के साथ चर्चा हुई। इसके साथ ही और मास्क तैयार करने की भी आगामी योजनाएं बनी है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

देव दीपावली पर रोशनी में नहाया काशी

वाराणसीः स्वर्गलोक से धरती पर पधार रहे देवताओं के स्वागत को काशी पूरी तरह सज-धज कर तैयार है। देव दीपावली को लेकर यही कहा जाता आगे पढ़ें »

सावधान! दांतों में हो रही ऐसी दिक्कत तो कोरोना…

नई दिल्लीः कोरोना वायरस का इंसान के दांतों पर भी बुरा असर देखने को मिल रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, कोविड-19 की चपेट में आगे पढ़ें »

ऊपर