पति-पत्नी व बेटे की कोविड से हुई मौत, इलाज में लाखों का बना बिल

हेल्थ कमिशन ने 4 लाख रुपये का डिस्काउंट देने का निर्देश दिया
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः राजारहाट गोपालपुर के समरापल्ली कृष्णापुर निवासी सुशांत कुमार बागची (66), लीना बागची (58), शुभोमय बागची (34) को मई महीने में कोविड का संक्रमण हुआ था। तीनों को ही इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। इसमें मां लीना व बेटे शुभायन को लोटस हॉस्टिपल, राजारहाट में भर्ती करवाया गया था। इसमें बेटे का बिल 5,33000, मां का बिल 570000 का बिल बना। पिता का इलाज होराइजन नर्सिंग होम में हुआ था। अधिक बिल पर विचार को लेकर वेस्ट बंगाल क्लिनिकल इस्टेब्लिशमेंट रेग्युलेटरी कमिशन के चेयरमैन जस्टिस असीम कुमार बनर्जी के पास पुत्रवधू मधुलता बागची ने एक परिजन के माध्यम से अपील की थी। मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस असीम कुमार बनर्जी ने कहा कि यह काफी दुखद घटना है। परिवार में केवल पुत्रवधू व उसका 4 साल का बेटा बचे हैं। मधुलता भी कोविड पॉजिटिव हुई थी, हालां‌कि वह बेटे के साथ घर पर ही रहीं व इलाज करवाया। हमने मामले को मानवीय तौर पर जांच के बाद लोटस हॉस्पिटल को 433000 रुपये का डिस्काउंट दिए जाने का निर्देश दिया।
ऑक्सीजन का बिल ही बनाया लाखों
देखा गया कि मां व बेटे के बिल में ऑक्सीजन का बिल ही लाखों रुपये बना। इसमें मां के ऑक्सीजन का बिल जो कि 17 दिन भर्ती थईं, 186700 व बेटे के 14 ऑक्सीजन का बिल 163600 बना। इसके बाद ही कुछ डिस्काउंट का निर्देश हमने दिया। ऑक्सीजन के अलावा अन्य बिल पर भी कमिशन ने विचार किया। जस्टिस असीम ने कहा कि शिकायतकर्ता सुनवाई के दौरान उपस्थित नहीं थे। इस कारण ही मामले पर हमने स्वयं खुद ही विचार कर डिस्काउंट दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बड़ाबाजार में बस की चपेट में आने से यात्री की मौत

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बड़ाबाजार थानांतर्गत स्ट्रैंड रोड पर मिनी बस की चपेट में आने से एख यात्री की मौत हो गयी। मृतक का नाम सुनील आगे पढ़ें »

ऊपर