मात्र 4 घंटे में पहुंच सकेंगे हावड़ा से रांची

6 से 8 घंटे की दूरी को किया जायेगा कम
हावड़ा : कैसा होगा जब हावड़ा से सुबह ट्रेन में बैठें और करीब 4 घंटे के अंदर आप रांची पहुंच जाएं और फिर उसी दिन रात में आप वापस लौट आएं। इन दोनों शहरों के बीच की दूरी 400 किमी है। जिन लोगों को अभी चल रही इंटरसिटी या शताब्दी एक्सप्रेस में दो शहरों के बीच यात्रा करने का अनुभव है, वे जानते हैं कि कम से कम 6 घंटे पहले इस दूरी को कवर करना असंभव है। लेकिन यह असंभव प्रतीत होने वाला कार्य संभव होगा यदि यात्रियों को परिवहन के लिए 130 किमी प्रति घंटे से अधिक की गति वाली सेमी-हाई-स्पीड ट्रेन का उपयोग किया जाए। भारतीय रेलवे बोर्ड की देश भर के विभिन्न रेलवे क्षेत्रों में ऐसी हाई स्पीड ट्रेनें चलाने की योजना है। रेलवे की विभिन्न फैक्ट्रियों में ऐसे 56 रैक बनाने का काम पहले से ही चल रहा है। इनमें से एक रैक हावड़ा-रांची मार्ग के लिए आवंटित किया गया है। पूर्व रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी एकलव्य चक्रवर्ती ने कहा कि कोरोना संक्रमण में वृद्धि के बाद, जब यात्री परिवहन निचले स्तर पर चला गया, तो भारतीय रेलवे ने राजस्व बढ़ाने के लिए माल परिवहन करके अपने व्यवसाय का विस्तार करने की पहल की। अगला कदम सेमी-हाई-स्पीड ट्रेन चलाना है। भारतीय रेलवे के अधिकारियों के अनुसार, ट्रेनें पूर्वी भारत के सबसे बड़े शहर और वाणिज्यिक केंद्र कोलकाता और रांची के बीच संचार का सबसे तेज़ साधन हैं, जो विभिन्न के लिए प्रमुख केंद्रों में से एक है। वहीं 400 ​किमी के इस सफर को करीब 8 घंटे तक लग जाते हैं। भारतीय रेलवे चाहती है कि इस समय को घटा कर मात्र 4 घंटे ही कर दिया जाये। ऐसी योजना विभिन्न व्यापारिक संगठनों को ध्यान में रखकर बनाई गई है। ट्रैक पर बहुत तेज गति से काम किया जा रहा है। इसमें एक विशेष प्रकार की स्टील ट्रैक शीट आदि तैयार की जा रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पश्चिम बंगाल जल्द बूस्टर डोज का परीक्षण करेगा

6 अस्पतालों ने जताई इच्छा सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पश्चिम बंगाल सरकार महानगर में कोविड-19 रोधी टीके की बूस्टर खुराक का जल्द परीक्षण करने की योजना बना आगे पढ़ें »

ऊपर