कैसे हुआ था मां सीता का हरण, स्थिति को दर्शा रहा कॉलेज स्क्वायर

पारंपरिक लाइटिंग के साथ अयोध्या के मंदिर का दर्शन होगा
नवरात्रि के पहले दिन सीएम ने किया उद्घाटन
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : उत्तर कोलकाता के दुर्गापूजा पंडालों में विख्यात कॉलेज स्क्वायर हर बार अपनी बेजोड़ लाइटिंग के साथ पारंपरिक तरीके से सजे पंडाल के लिए जाना जाता है। इस बार भी कॉलेज स्क्वायर दर्शकों को इस हुनर के साथ आकर्षित करने वाला है। पंडाल की बात करें तो लोगों को अयोध्या के एक मंदिर के दर्शन होंगे, उसके साथ लाइटिंग की कलाकारी लोग देख सकेंगे। नवरात्रि के पहले दिन मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने यहां पूजा पंडाल का उद्घाटन किया। ममता ने कहा कि यह पूजा कोलकाता की पहचान है। इसकी अलग ही गरिमा है जो दशकों से बरकरार है। हर बार यहां दर्शकों की भारी भीड़ आकर्षण का कारण बनती है, इस बार कोरोना है इसलिए नियमाें को मानते हुए पूजा का उत्साह मनाएं।
कमेटी की ओर से विकास मजुमदार ने बताया कि लाइटिंग हर बार की तरह पारंपरिक ही सजायी गयी है। मां की मूर्ति साबेकी है। पंडाल को अयोध्या के मंदिर का रूप दिया गया है। उन्होंने बताया कि जिस समय मां सीता का हरण किया गया था उसे दिखाने की कोशिश की गयी है। उसके लिए खास रथ तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि कोविड के नियमों को मानते हुए तैयारी की गयी है। लोगों से भी अपील होगी कि वे नियम मानें तथा पूजा इंजॉय करें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

निकाय चुनावों के लिए उम्मीदवार नहीं मिल पा रहे माकपा को

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बंगाल विधानसभा चुनाव में एक सीट नहीं जीत पाने वाली माकपा का अब यह आलम है कि उसे नगर निकायों के चुनाव आगे पढ़ें »

ऊपर