गंभीर रूप से बीमार कोविड मरीजों में जान का खतरा अधिक

आंकड़ों से विशेषज्ञ भी चिं‌तित
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः राज्य में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या हाल के दिनों में बढ़ी है। अब तक इस संक्रमण से जितने मरीजों की मौत हो चुकी है, उनमें यह बात सामने आई है कि गंभीर रूप से बीमार लोगों को जान का खतरा अधिक नजर आ रहा है। सेकेंड वेव लोगों के फेफड़े और दिल पर अधिक वार कर रहा है। ऐसे में विशेषज्ञ भी कोरोना ग्रस्त गंभीर मरीजों की जान बचाने की कोशिशों में जुटे हैं।
74% से ‌अधिक मरीजों में मिली कोमोर्बिडिटी
स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक कोविड संक्रमण से मरने वाले मरीजों में 74.9% में कोमोर्बिडिटी मिली है। दूसरी तरफ 25.1% में किसी प्रकार की कोमोर्बिडिटी नहीं थे। अब तक राज्य में कोरोना वायरस के संक्रमण 13,895 की मौत हो चुकी है। इसमें 10402 में कोमोर्बिडिटी मौजूद थी, वहीं 3493 में किसी प्रकार की कोमोर्बिडिटी नहीं देखी गई।
वैक्सीनेशन पर जोर दें सरकारें
वेस्ट बंगाल डॉक्टर्स फोरम की ओर से डॉ. राजीव पाण्डेय ने कहा कि जरूरत है ‌‌कि हम वैक्सीनेशन पर जोर दें। विशेषकर फ्रंटलाइन कर्मियों व स्वास्थ्य कर्मियों को अधिक वैक्सीनेशन की आवश्यकता है। टीकाकरण में जोर से ही कोरोना के सेकेंड वेव का मुकाबला संभव है।
कोविड मृतकों में इन बीमारियों पर नजर (पुरुष)
डायबि‌टीज- 25.80%
कार्डियाक -10.28%
क्रोनिक किडनी (सीकेडी)-9.61%
हाइपरटेंशन-30.49%
अन्य बीमारी- 17.08%
कोविड मृतकों में इन बीमारियों पर नजर (महिला)
डायबि‌टीज- 27.35%
कार्डियाक -8.02%
क्रोनिक किडनी (सीकेडी)-9.21%
हाइपरटेंशन-32.62%
अन्य बीमारी-17.45%
(नोटः आंकड़े स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग, प.बं. सरकार)

शेयर करें

मुख्य समाचार

रोजाना केला खाने से मिलेंगे इतने फायदे, पूरी दुनिया है इसकी दीवानी

कोलकाता : केला एक हेल्दी फ्रूट है जिसे दुनिया भर में पसंद किया जाता है। केले को सेहत के लिए बहुत गुणकारी माना जाता है। आगे पढ़ें »

शनि की साढ़ेसाती झेल रहे हैं तो इन उपायों से शनि को करें प्रसन्‍न

कोलकाता : शनि को सबसे क्रूर ग्रह की संज्ञा दी गई है और जब किसी राशि में साढ़ेसाती की स्थिति में शनि होते हैं तो आगे पढ़ें »

ऊपर