नारदा मामले में हाई कोर्ट ने जतायी हैरानी

सन्मार्ग संवाददाता,कोलकाता : नारदा स्टिंग ऑपरेशन मामले की सुनवायी करते हुए हाई कोर्ट के जस्टिस जयमाल्य बागची ने एक साल बीतने के बावजूद फोरेंसिक रिपोर्ट नहीं मिलने पर हैरानी जतायी। इस ऑपरेशन में इस्तेमाल किए गए टेप, एप्पल फोन और वायस टेस्ट का सैंपल फोरेंसिक जांच के लिए अमरीका भेजा गया ‌था। इसकी वजह यह है कि एप्पल अमरीकी कंपनी है।

सीबीआई के एडवोकेट अमरजीत दे ने बताया कि वृहस्पतिवार को अपरूपा पोद्दार, इकबाल अहमद और शुभेंदु अधिकारी की तरफ से दायर रिट पर सुनवायी हुई। उन्होंने उनके खिलाफ नारदा मामले में दायर एफआईआर को खारिज करने की अपील करते हुए रिट दायर की है।

सीबीआई जांच जारी रख सकती है

इकबाल अहमद के मामले में जस्टिस बागची ने कहा कि सीबीआई अपनी जांच जारी रख सकती है, लेकिन जहां तक इकबाल अहमद का सवाल है उनकी जान को जोखिम में डाल कर पूछताछ नहीं की जा सकती है। उनके एडवोकेट राजदीप मजुमदार ने कोर्ट को बताया कि वे काफी बीमार हैं और बोलने की स्थिति में नहीं है। शुभेंदु अधिकारी के मामले में जस्टिस बागची ने आदेश दिया कि उनकी रिट को भी अपरूपा और इकबाल के मामले से जोड़ दिया जाए।

पिछले दिसंबर में भेजा था आवेदन

एडवोकेट अमरजीत दे ने कोर्ट को बताया कि इस मामले में चार सांसदों के खिलाफ भी मामला चलाने के लिए लोकसभा के स्पीकर को अनुमति देने के लिए पिछले साल दिसंबर में आवेदन भेजा गया था। अभी तक उनकी अनुमति नहीं मिली है। जस्टिस बागची ने आदेश दिया कि इस मामले की अगली सुनवायी विंटर वैकेशन के बाद होगी। यहां गौरतलब है कि 2016 में हाई कोर्ट की तत्कालीन चीफ जस्टिस मंजुला चेल्लूर ने सीबीआई को इसकी प्राथमिक जांच करने का आदेश दिया था। गौरतलब है कि चंडीगढ़ लैब में इस टेप की जांच की गई थी, लेकिन कुछ हिस्से नहीं खुल पाए थे। उनके रिवाइवल के लिए ही इन्हें अमरीका भेजा गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मणिपुर में कांग्रेस के छह विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता और पार्टी से दिया इस्तीफा

इम्फाल : मणिपुर में कांग्रेस के छह विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया और मंगलवार को पार्टी भी छोड़ दी। इन छह आगे पढ़ें »

आईपीएल की तैयारियां देखने यूएई जाएगी बीसीसीआई की टीम

दुबई : भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) अधिकारियों के एक शीर्ष प्रतिनिधिमंडल के अगस्त के तीसरे सप्ताह तक दुबई में पहुंचने की उम्मीद है, जो आगे पढ़ें »

ऊपर