स्वास्थ्य विभाग ने बताया किनके कोविड टेस्ट जरूरी

कोलकाताः राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना सैंपल टेस्टिंग को लेकर गाइडलाइंस जारी की है। हाल ही में जारी दिशा-निर्देश का पालन करने की सलाह दी गई है। इसमें जानकारी दी गई है कि किसे टेस्ट करने की जरूरत है, किसे टेस्ट करने की जरूरत नहीं है। वहीं कहा गया है कि अस्पताल में दाखिले के मामले में सैंपल टेस्ट में कुछ नियमों का पालन करना होता है। सैंपल परीक्षण पर आईसीएमआर द्वारा हाल ही में जारी दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि स्पर्शोन्मुख नमूनों के नमूने में ढिलाई का संदर्भ है। बंगाल के कुछ डॉक्टर आईसीएमआर की इस गाइडलाइन की बात कर रहे थे, इससे भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है, चूंकि ओमिक्रॉन के मामले बढ़ रहे हैं, इसलिए अभी सैंपल टेस्ट को इतने हल्के में लेना सही नहीं होगा। स्वास्थ्य कर्मियों के कोरोना से संक्रमित होने पर चिकित्सा सेवाएं बाधित होंगी।
इन्हें टेस्ट कराना चाहिए
-उन लोगों को कोरोना टेस्ट कराना चाहिए जिन्हें कफ, बुखार, खांसी, गले में खराश, मुंह में स्वाद न आए
-संक्रमित के संपर्क में आए 60 साल या उससे अधिक की उम्र के लोग
-संक्रमित के संपर्क में आए गंभीर बीमारी वाले लोग (उदाहरण किडनी, हृदय)
-ऐसे लोग जिन्होंने विदेश यात्रा की हो
-भारत आने वाले विदेशी यात्री
-ऐसे यात्री जिन्हें डॉक्टरों ने सलाह दी हो
-लक्षण वाली गर्भवती महिलाएं और संपर्क के इतिहास वाली स्पर्शोन्मुख गर्भवती महिलाएं
ऐसे लोगों को कोरोना टेस्ट कराने की जरूरत नहीं
-एसिम्प्टोमैटिक लोग
-संक्रमितों के संपर्क में आए लोग जिन्हें अधिक जोखिम न हो
-ऐसे लोग जिन्हें होम आइसोलेशन से छुट्टी मिली हो
-ऐसे लोग जो कोविड 19 ठीक होने पर डिस्चार्ज हुए हों
-घरेलू यात्रा करने वाले यात्री

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

इंदौर में बम फटने से दो की मौत, 15 से अधिक घायल

इंदौर : इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है की इंदौर में बम फटने के बाद दो की मौत के बाद भारी संख्या में आगे पढ़ें »

ऊपर