बच्चों व महिलाओं के लिए 10 हजार बेड तैयार कर रहा स्वास्थ्य विभाग

बच्चों के लिए स्पेशल कोविड बेड हर अस्पताल में
थर्ड वेव के मद्देनजर तैयारियां जोरों पर
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोरोना वायरस महामारी के सेकंड वेव ने स्वास्थ्य विभाग को हिला कर रख दिया है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग आगामी दिनों में और अधिक तत्पर है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से थर्ड वेव की आशंका के मद्देनजर विशेष तैयारियां की जा रही हैं। इसी क्रम में स्वास्थ्य विभाग करीब 10000 बेड विभिन्न अस्पतालों में तैयार करवा रहा है। यह बेड महिलाओं व शिशुओं के लिए होंगे। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों की मानें तो सभी अस्पतालों में ही कोविड-19 बेड तैयार रखने को कहा गया है।
स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारी शुरू कर दी गई है। गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज व अस्पतालों में बच्चों के लिए आईसीयू वार्ड बनाया जा रहा है। उसका नाम है पीकू और नीकू । पीकू यानि पीडियाट्रिक इंटेसिव केयर यूनिट और नीकू यानि नियो नेटल इंटेसिव केयर यूनिट। पीडियाट्रिक इंटेसिव केयर यूनिट में बड़े, नियो नेटल इंटेसिव केयर यूनिट में नवजात शिशुओं को रखकर इलाज करने की व्यवस्था होगी।
एसएनसीयू के 20% बेड कोविड के लिए रिजर्व-
स्वास्थ्य विभाग की ओर से सभी अस्पतालों में सीक न्यू बोर्न केयर यूनिट (एसएनसीयू) के 20% बेड कोविड मरीजों के इलाज के लिए रिजर्व रखने को कहा गया है। हालांकि इसके अलावा अन्य शिशुओं की चिकित्सा भी जारी रहेगी।
350 एसएनसीयू हल्के व मध्यम कोविड के लिए-
स्वास्थ्य विभाग की ओर से 350 बेड एसएनसीयू के हल्के और मध्यम कोविड-19 के लिए रखने के निर्देश है। इसके अलावा 1300 पेडियाट्रिक आईसीयू बेड भी तत्पर रहेगा।
जुलाई तक ट्रेनिंग होगी पूरी-
स्वास्थ्य विभाग थर्ड वेव की आशंका के मद्देनजर विशेष प्रशिक्षण की व्यवस्था भी कर रहा है। इसमें नर्सिंग स्टाफ से लेकर के अन्य स्वास्थ्य कर्मी शामिल हैं। माना जा रहा है कि जुलाई तक सभी प्रकार की ट्रेनिंग दे दी जाएगी, ताकि कोविड-19 के थर्ड वेव लिए सभी अस्पताल तत्पर रहें।
नवजात से लेकर 12 साल के बच्चों तक के इलाज की विशेष व्यवस्था-
स्वास्थ्य विभाग की ओर से सभी अस्पतालों में नवजात से लेकर 12 साल तक के बच्चों के लिए विशेष चिकित्सा की व्यवस्था रहेगी। यह व्यवस्था अगस्त से बिल्कुल तत्पर रहने की उम्मीद है। विशेषज्ञों का मानना है कि थर्ड वेव में बच्चों पर अधिक प्रभाव पड़ सकता है। इस कारण या विशेष व्यवस्था की जा रही है।
इस पर नजर
-कुल बेड-10,000
-कुल पेडियाट्रिक आईसीयू बेड-1300
-एसएनसीयू बेड-20% रिजर्व
-1 दिन के नवजात से लेकर 12 साल तक के बच्चों के लिए विशेष व्यवस्था
कुछ अस्पतालों में व्यवस्था-
अस्पताल- पीकू बेड
एम आर बांगुर – 25
आरजी कर- 25
बेलियाघाटा आईडी- 25
एनआरएस- -25
कोलकाता मेडिकल- 25
(नोट-आंकड़े स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग)

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ब्रेकिंगः बस में अधिक किराया वसूले जाने पर…

लिया बस का अधिक किराया तो बस की परमिट होगी रद्दः फिरहाद कहा अधिक किराया लेने वाले बस के खिलाफ कड़ी कार्रवाई सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः निजी बस के आगे पढ़ें »

ऊपर