राज्यपाल ने मुख्य सचिव को तलब किया

कानून – व्यवस्था पर फिर बिफरें राज्यपाल, मुख्य सचिव को बुलाया
कहा – तृणमूल के पक्ष में वोट नहीं डालने वालों को दी जा रही है सजा
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्य में चुनाव के बाद हिंसा को लेकर राज्यपाल जगदीप धनखड़ राज्य सरकार पर एक बार फिर बिफरें हैं। उन्होंने इस मामले में राज्य के मुख्य सचिव एच के द्विवेदी काे 7 जून यानी आज बुधवार को राजभवन में तलब किया है। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रविवार को कहा कि उन्होंने इस ‘प्रतिशोधात्मक हिंसा’ पर काबू पाने के लिए प्रशासन द्वारा उठाये गये कदमों के बारे में जानने के लिए मुख्य सचिव एच के द्विवेदी को बुलाया है। उन्होंने यह भी दावा किया राज्य पुलिस ‘राजनीतिक विरोधियों से बदला लेने के लिए सत्ताधारी व्यवस्था के विस्तार के तौर पर’ काम कर रही है। धनखड़ ने ट्विटर पर अपनी बात रखते हुए कहा कि बंगाल में लाखों लोग विस्थापित किये जा रहे हैं एवं करोड़ों रुपयों की संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि चुनाव के बाद करीब 16 लोगों की जाने गयी हैं। सीएम ने कहा था कि तृणमूल और भाजपा दोनों ही पार्टियों के लोगों की जानें गयी हैं। सीएम ने कहा था कि उस दौरान कानून व्यवस्था का दायित्व चुनाव आयोग के हाथों में था।
सुरक्षा बोलकर कुछ नहीं है यहां
राज्यपाल ने ट्वीट किया, राज्य की स्थिति बेहद ही चिंताजनक है। सुरक्षा बोलकर कुछ नहीं है। इस परिस्थिति में मुख्य सचिव को साेमवार को राजभवन में बुलाया जा रहा है। वोट के बाद हुई हिंसा को राेकने के लिए क्या क्या कदम उठाये गये है, इन सभी की रिपोर्ट मांगी गयी है। उन्होंने लिखा, ‘राज्य अकल्पनीय स्तर पर चुनाव बाद अप्रत्याशित प्रतिशोधात्मक हिंसा की चपेट में है। लाखों लोग विस्थापित किये जा रहे हैं एवं करोड़ों की संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। लगातार तोड़फोड़ एवं अराजकता से बड़े पैमाने पर आगजनी, लूट और संपत्तियों को नुकसान हुआ है।
बलात्कार एवं हत्या की कई घटनाएं हुईं
राज्यपाल ने कहा, अराजक तत्वों के हाथों बलात्कार एवं हत्या की कई घटनाएं हुईं और ऐसे तत्वों को कानून का कोई भय नहीं है। तृणमूल कांग्रेस के पक्ष में वोट नहीं डालने वालों को सामाजिक रूप से बहिष्कृत किये जाने एवं लाभों से वंचित करने की घटनाओं की निंदा करते हुए उन्होंने कहा कि उनसे अपने ही घरों में रहने एवं अपना काम-धंधा चलाने के लिए जबरन वसूली की जा रही है। विरोधियों का सामाजिक बहिष्कार किया जा रहा है। ये सब मानवता को शर्मसार कर देगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अवैध संबंध की दर्दनाक सजा, नाले में घुसकर हत्याकांड को अंजाम

नागपुर: इश्क और मुश्क छिपाए नहीं छिपती और इसका नतीजा भी घातक ही होता है। महाराष्ट्र के नागपुर से एक ऐसी खबर सामने आई जो आगे पढ़ें »

विजय माल्या, नीरव मोदी, मेहुल चौकसी की जब्त 9,371 करोड़ की संपत्ति बैंकों को किए गए ट्रांसफर

नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 23 जून को कहा कि उसने भगोड़े अरबपतियों विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चौकसी से जुड़े मामलों में आगे पढ़ें »

ऊपर