नारदा प्रकरण : राजभवन के सामने प्रदर्शनों पर राज्यपाल हुए अति गंभीर

* राजभवन की सुरक्षा में लगी सेंध
* कहा – मेरे और परिवार पर था खतरा
* पुसिल कमिश्नर से मांगी रिपोर्ट
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राजभवन के सामने निषेधाज्ञा के बावजूद लगातार दो दिनों तक हुए प्रदर्शन से राज्यपाल जगदीप धनखड़ बेहद ही खफा हैं। उन्होंने राजभवन की सुरक्षा में सेंध लगाने का भी आरोप लगाया है और कहा कि मेरे और परिवार पर खतरा उत्पन्न हो सकता है। प्रदर्शन के दौरान देखा गया कि पुलिस मूकदर्शक बनी रही। इस पूरे मामले पर राज्यपाल ने कोलकाता पुलिस कमिश्नर से रिपोर्ट मांगी है। राज्यपाल ने ट्विटर पर अपनी बात रखी तथा दोनों ही घटनाओं की वीडियो क्लिपिंग को कोलकाता पुलिस के आधिकारिक हैंडल के साथ टैग किया।
बता दें कि नारदा मामले में राज्य के दो मंत्रियों समेत विधायक तथा सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के एक पूर्व नेता को सीबीआई द्वारा गिरफ्तार किये जाने के बाद सोमवार को राजभवन के पास पार्टी कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया था। उसके अगले दिन मंगलवार को एक सामाजिक संगठन ने प्रदर्शन किया जिसमें एक व्यक्ति उत्तर गेट के समीप आधा दर्जन भेड़ों के साथ नजर आ रहा है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी एवं कोलकाता पुलिस के ट्विटर हैंडल पर टैग करते हुए जगदीप धनखड़ ने बुधवार को ट्वीट किया, ‘कानून व्यवस्था की दशा? राजभवन के मुख्य द्वार पर चिंताजनक स्थिति ?…’ उन्होंने लिखा, ‘और यह सब तब जब इलाके में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा है। उस पर अद्यतन जानकारी मांगने के लिए बाध्य हूं।’ एक अन्य ट्वीट में राज्यपाल ने मंगलवार को राजभवन के बाहर भेड़ों के साथ खड़े एक व्यक्ति का वीडियो साझा किया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘ इस पर कोलकाता पुलिस का यह रुख (हास्यास्पद) है कि यह व्यक्ति पृष्ठभूमि में राजभवन के साथ फोटो खिंचवाना चाहता है। अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी।’ राज्यपाल के कार्यालय से बयान भी आया जिसमें कहा गया है कि राजभवन की सुरक्षा में दो बार सेंध लगी थी। नॉर्थ गेट से कुछ उपद्रवी तत्व घुस आए थे। इस संबंध में वीडियो क्लिप्स को कोलकाता के पुलिस कमिश्नर के साथ शेयर किया गया है। इन घटनाओं और पुलिस की ओर से उठाये गये कदमों के बारे में कमिश्नर से 5 बजे तक रिपोर्ट तलब की गई है। राज्यपाल ने अपने पत्र में लिखा है कि यह देखा है कि दो बार राजभवन की सुरक्षा से खिलवाड़ के हालात पैदा हो गए। बड़ी संख्या में पुलिस की मौजूदगी होने के बाद भी लगातार दो घंटे तक बड़ी संख्या में लोग प्रदर्शन करते रहे। इन लोगों ने राज्य के संवैधानिक मुखिया के खिलाफ आपत्तिजनक नारेबाजी की। यह हेड ऑफ स्टेट की गरिमा और सम्मान के खिलाफ है। इन लोगों ने नॉर्थ गेट को ब्लॉक कर दिया था और कोई वहां से आ या जा नहीं सकता था। इससे राजभवन की सुरक्षा को खतरा पैदा हुआ। यही नहीं यह राज्यपाल और उनके परिवार की सुरक्षा के लिहाज से भी चिंताजनक था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ये ‘कॉन्डम बम’ इजरायल के खिलाफ हो रहा है यूज

नई दिल्ली: इजरायल और फलस्तीन के बीच हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं। दोनों देशों के बीच मई में एक लंबे संघर्ष के बाद सीजफायर का ऐलान आगे पढ़ें »

वैक्सीन लगवाने के बाद क्‍या पीरियड्स के दौरान हो रहींं ये दिक्कतें?

लंदन: कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद हल्के साइड इफेक्ट को लेकर पहले ही विशेषज्ञ स्थिति साफ कर चुके हैं कि डरने की कोई बात नहीं आगे पढ़ें »

ऊपर