जनता का हाल जानने सरकार जायेगी ‘आपके द्वार’ : ममता

– वोटरों को रिझाने के लिए ममता सरकार की नयी योजना

– हर ब्लॉक में सुबह 11 बजे से लगेगा सरकारी कैंप

कोलकाता/बांकुड़ा : जनता की समस्या सुनने सरकार अब आम जनता के दरवाजे तक जायेगी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसकी घोषणा की। इसका नाम ‘दुआरे-दुआरे’ दिया गया है। सरकारी अधिकारी समस्या सुनने के लिए गांव में चौपाल लगायेंगे। इसके अलावा राज्यवासियों के लिए फ्री राशन की मियाद को तृणमूल सरकार ने बढ़ा दिया है। यह बड़ी घोषणा करते हुए मुख्यमंत्री ममता ने बताया कि जून महीने के बाद भी फ्री में मिलने वाला राशन जारी रहेगा।

ममता ने कहा कि अगली​ सरकार तृणमूल की ही बनने जा रही है, किसी को ​चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। जिस तरह सरकारी योजनाओं और परिसेवाओं का लाभ आम जनता को मिल रहा है, वह आगे भी जारी रहेगा। लॉकडाउन के बाद गरीब और जरूरतमंदों को ध्यान में रखते हुए ही केंद्र और राज्य सरकार की तरफ से फ्री राशन की घोषणा की गयी थी। बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने जून महीने में कहा था जरूरतमंदों को नवंबर महीने तक फ्री राशन दिया जाएगा। सीएम ममता बनर्जी ने इसके बाद ही घोषणा की थी जून महीने तक फ्री राशन दिया जाएगा।

दो महीनों तक चलेगी​ योजना

यह योजना दो महीनों तक चलेगी जिसकी शुरुआत 1 दिसंबर से की जाएगी और समापन 31 जनवरी को होगा। इस दौरान एक रिपोर्ट फाइल तैयार होगी ताकि पता चल सके ​कि सरकार का काम जनता के बीच पहुंचा भी है कि नहीं। यह योजना ब्लॉक स्तर पर होगी क्योंकि ममता सरकार का टार्गेट जमीनी स्तर पर लोगों से जुड़ना है।

कैंप के जरिये मिलेगी सरकारी परिसेवा

सरकारी योजनाओं के तहत लोगों को किसी भी योजना का लाभ लेने के लिए अब तक सरकारी कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ते थे मगर अब ऐसा नहीं होने वाला है। मुख्यमंत्री ने आमजनों की सहूलियत को देखते हुए सरकारी परिसेवा के पाने का तरीका और सहज कर दिया है। इसलिए अब अपने इलाके में ही लगे सरकारी कैंप में जाने भर से लोगों को उनकी सुविधानुसार सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने का मौका ममता सरकार दे रही है।

‘शाह ने 5 स्टार होटल से मंगाया था बासमती चावल, आदिवासी के घर खाने का किया नाटक’

चुनावी मौसम की सुगबुगाहट तेज हो चुकी है। कुछ दिनों पहले ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बांकुड़ा में आदिवासी के घर खाना खाने पहुंचे थे। शाह के इस दौरे को ढोंग करार करते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने साफ कहा है कि अमित शाह बंगाल में दिखावे के लिए आये थे। लोगों को भ्रमित करने के लिए आदिवासी के घर खाना पकाते हुए दिखाया गया था, सच्चाई कुछ यह थी कि फाइव स्टार होटल से बासमती चावल मंगाया गया था। ममता ने आदिवासियों को संबोधित करते हुए कहा कि तृणमूल और यहां की सरकार आदिवासियों की हितैषी है। उनके सुख-दुख में हमेशा साथ खड़ी रहने वाली सरकार है हमारी। ममता ने कहा कि भाजपा वोट की राजनीति करती है। वोट लेने के बदले पैसे देती है। दंगा भड़काती है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस योजना की घोषणा करते हुए बताया कि ‘दुआरे-दुआरे सरकार’ हमारा लक्ष्य बंगाल की जनता तक तमाम सरकारी योजनाओं और परिसेवाओं को पहुंचाना है। इस योजना की मदद से यह सुनिश्चित किया जाएगा कि लोग कहीं सरकारी योजनाओं से वंंचित तो नहीं हैं।

कृषि बिल में बदलाव कर बर्बादी लाया है केंद्र

ममता ने कृषि बिल का दोबारा विरोध किया तथा कहा कि यह बिल लाकर केंद्र सरकार सभी के लिए बर्बादी लायी है। अगर केंद्र की तरफ से इस महंगाई को लेकर कोई उपाय नहीं किया जाता तो लोगों को आलू-भात भी नहीं नसीब होगा।

बिरसा मुंडा की जयंती पर छुट्टी

ममता बनर्जी ने बिरसा मुंडा की जयंती के मौके पर राज्य सरकार की तरफ से सरकारी छुट्टी की घोषणा की। ममता ने कहा कि अमित शाह ने बिरसा मुंडा की प्रतिमा को न पहचानकर दूसरे शिकारी को माला पहना दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

tmc

बौखला उठे हैं भाजपा प्रवक्ता, मर्यादा की सारी सीमाएं लांघ रहे हैं

तृणमूल को बांग्लादेशी पार्टी कहा, प्रवक्ता को बंगलादेशी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : जैसे - जैसे विधानसभा चुनाव करीब आ रहा है वैसे - वैसे भाजपा में बौखलाहट आगे पढ़ें »

मुख्यमंत्री के साथ हुए व्यवहार पर नरेंद्र मोदी ने एक शब्द नहीं कहा – तृणमूल

पीएम के रवैये पर तृणमूल ने जताया खेद सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर विक्टोरिया मेमोरियल में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ममता आगे पढ़ें »

ऊपर