सरकारी फरमान : स्कूलों और गवर्नमेंट भवनों में लगेंगे रूफ टॉप सोलर प्लांट

सौर ऊर्जा से बिजली बिल कम करने की योजना
सभी जिलों को निर्देश
लिस्ट में बढ़ाएं सौर ऊर्जा इस्तेमाल करने वाले भवनों की संख्या
बिजली का बिल कम करने के लिए अब धूप से भी कमाई की जाएगी
सोनू ओझा
कोलकाता : सरकारी भवनों और स्कूलों में बिजली का बिल कम करने के लिए सरकार धूप से कमाई का जरिया निकाल रही है। सरकारी भवनों और स्कूलों में जल्द ही रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाया जाएगा जिससे वहां बि​जली की रोशनी भी रहेगी तथा बिजली बिल का बोझ भी नहीं उठाना पड़ेगा। हालांकि 2011 से ही इन भवनों में सोलर पैनल लगाने की योजना शुरू की गयी थी तथा कई जगहों पर लगाया भी गया है। विभागीय अधिकारी ने बताया कि सरकार पर आर्थिक बोझ काफी बढ़ रहा है जिसे इधर-उधर कांट छांट कर कम करने की कोशिश की जा रही है। सरकारी भवनों से लेकर स्कूलों की छत पर सोलर पैनल बैठाने की योजना इसी रणनीति का एक हिस्सा कहा जा सकता है।
जिलों को तालिका बनाने का निर्देश
नवान्न के अधिकारी ने बताया कि हाल ही में जिलास्तर पर बैठक की गयी थी, जिसमें सभी जिलाध्यक्षों को दिशा-निर्देश दिया गया है कि वे अपने-अपने जिले में जितने भी सरकारी भवन और स्कूल हैं उनकी तालिका तैयार करें। इस तालिका के हिसाब से ही वहां छतों पर सोलर पैनल लगाने की व्यवस्था की जाएगी।
बिजली बिल कम होने के साथ प्रदूषण भी होगा कम
सरकार की इस पहल से बि​जली का बिल तो कम होगा ही, पर्यावरण के नजरिये से भी यह अच्छी पहल होगी। सोलर पैनल लगने से प्रदूषण की मात्रा घटेगी। इसके अलावा जल संरक्षण भी इससे अधिक होता है। इसलिये राज्य में इसे बढ़ावा देने पर विचार किया जा रहा है।
करीब 2500 भवनों में हैं रूफ टॉप सोलर प्लांट
अधिकारी ने बताया कि मौजूदा समय में करीब 2500 भवन हैं, जिनमें स्कूल, कॉलेज व सरकारी कार्यालय शामिल हैं जहां रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाया जा चुका है।
1000 स्कूलों की छतों पर सोलर प्लांट लगाने की योजना
सोलर पैनल को बढ़ावा देने के लिए राज्यभर में करीब 1000 स्कूलों में रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाया जाएगा। इनसे करीब 10 किलोवॉट बिजली का उत्पादन किया जाएगा। सूत्राें के अनुसार इस योजना के तहत प्रति वर्ष 100-200 स्कूलों में रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाया जाएगा। मालूम हो कि राज्य पर्यावरण विभाग की ओर से करीब 2000 स्कूलों में सोलर पैनल लगाया गया है। राज्य की पर्यावरण मंत्री डॉ. रत्ना दे नाग ने बताया कि स्कूल की छतों पर ये पैनल लगाये गये हैं जिनसे अमुक स्कूल में ही बिजली इस्तेमाल की जाती है। इस पैनल से 18 मेगावॉट बिजली का उत्पादन होता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सावन का अंतिम सोमवार, महादेव को प्रसन्न करने के लिए ऐसे करें शिवलिंग की पूजा

कोलकाताः सावन का चौथा और अंतिम सोमवार आज है। इसी के साथ भगवान शिव का प्रिय सावन मास धीरे-धीरे समाप्ति की ओर पहुंच रहा है। आगे पढ़ें »

ऊपर