राज्य के बड़े अस्पतालों पर है मुख्यमंत्री के कार्यालय की नजर

वैक्सीनेशन में भी कालाबाजारी, 10-10 हजार तक में मिल रही वैक्सीन की डोज!
वैक्सीनेशन में बड़ा गड़बड़झाला
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः तीसरे चरण के वैक्सीनेशन में बड़ा गड़बड़झाला नजर आ रहा है। आलम यह है कि राज्य सरकार की ओर से निजी वैक्सीनेशन सेंटरों को सीधे वैक्सीन लेने की बात कही गई थी। इसके बाद कुछ अस्पतालों ने वैक्सीनेशन की शुरुआत भी कर दी है। इसमें तीसरे फेज के तहत 18-44 उम्र के लोगों को वैक्सीन दी जा रही है। हालांकि वैक्सीनेशन की इस प्रक्रिया में बड़ी धांधली की भी खबरें सामने आ रही हैं। सूत्र बताते हैं कि एक तरफ जहां वैक्सीन की कीमत तय की गई है, उस कीमत से अधिक की वसूली की जा रही है। आलम यह है कि वैक्सीन के लिए 10 हजार रुपये तक की कीमत लोगों को चुकानी पड़ी है। वहीं बिल में इसका उल्लेख तक नजर नहीं आ रहा है।
पहले आओ, पहले पाओ जैसी स्थिति, सरकार बेबस
कोरोना वायरस के टीकों का आलम यह है कि तीसरे फेज के वैक्सीनेशन में पहले आओ, पहले पाओ जैसी स्थिति नजर आ रही है। वैसे राज्य सरकार की ओर से स्वास्थ्य विभाग अब भी प्राथमिकता वाले समूहों को निःशुल्क ही वैक्सीन दे रहा है। हालांकि आम लोगों को वैक्सीन के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाना पड़ रहा है।
स्लॉट कई दिनों तक मिल रहे फुल, वैक्सीन की डोज आम आदमी से कोसों दूर
राज्य में सबसे पहले वुडलैण्ड, इसके बाद चॉर्नक हॉस्पिटल, बीपी पोद्दार हॉस्पिटल ने तीसरे फेज का वैक्सीनेशन शुरू किया है। हालांकि देखा जा रहा है कि कई दिनों तक कोशिश के बाद भी वैक्सीनेशन के स्लॉट फुल मिल रहे हैं। ऐसे में आम आदमी की पहुंच से वैक्सीन अब भी कोसों दूर नजर आ रही है। वैसे इन अस्पतालों ने कारपोरेट तौर पर भी वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू किया है।
कोवैक्सीन बनाने वाली भारत बायोटेक की कोवैक्सीन की एक डोज राज्यों को 600 रुपये में मिल रही है। हालांकि प्राइवेट अस्पतालों को इसकी एक डोज 1200 रुपये में मिल रही है। इसके अलावा, कोवैक्सीन को 15 से 20 डॉलर प्रति डोज की कीमत पर एक्सपोर्ट किया जा रहा है, यानी कि करीब 800 रुपये से 1500 रुपये तक प्रति डोज। मौजूदा समय में भारत बायोटेक केंद्र सरकार को पहले से 150 रुपये प्रति डोज के हिसाब से कोवैक्सीन दे रही है।
दूसरी तरफ कोविशिल्ड के लिए भले ही 700 रुपये तक कीमत है। हालांकि इसका मिलना भी बड़ी बात नजर आ रही है। यह वैक्सीन राज्य सरकारों को 400 रुपये और निजी अस्पतालों को 600 रुपये में मिल रही है। इसमें वैक्सीन की कीमत और लगवाने के चार्ज समेत आपको निजी अस्पतालों में 700 रुपये से अधिक तक चुकाने पड़ सकते हैं। यह कीमतें 1 मई से ही लागू की गई हैं। केंद्र सरकार को सिर्फ 150 रुपये प्रति खुराक की दर से कोविशिल्ड वैक्सीन मिल रही है। वैसे यदि आपको सरकारी वैक्सीनेशन सेंटर पर वैक्सीन मिल जाती है, तो यह निःशुल्क है। हालांकि इसके लिए आपका नंबर कब आएगा, यह कहना मुश्किल है।
और निजी सेंटरों में वैक्सीनेशन से ही हालात सुधरने की उम्मीद
इस बारे में विशेषज्ञों का कहना है कि और निजी अस्पतालों में वैक्सीनेशन शुरू होने से ही हालात कुछ सुधरने की उम्मीद है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वैक्सीन लगवाने के बाद क्‍या पीरियड्स के दौरान हो रहींं ये दिक्कतें?

लंदन: कोरोना वैक्सीन लगवाने के बाद हल्के साइड इफेक्ट को लेकर पहले ही विशेषज्ञ स्थिति साफ कर चुके हैं कि डरने की कोई बात नहीं आगे पढ़ें »

कोरोना मरीज की मौत को कब नहीं माना जाएगा कोविड डेथ…

नई दिल्ली : कोरोना से मौत पर मुआवजे की मांग के लिए सुप्रीम कोर्ट में जो अर्जी दाखिल की गई थी, उसपर केंद्र सरकार ने आगे पढ़ें »

ऊपर