केएमसी या फिर अस्पतालों में ही लगवाएं वैक्सीन : फिरहाद

वैक्सीनेशन को लेकर कोलकाता नगर निगम है अलर्ट
वैक्सीन को लेकर निगम चलायेगा जागरूकता अभियान
फर्जी वैक्सीन लगवाने वाले लोगों पर नजर रख रहे हैं चिकित्सक
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : फर्जी वैक्सीनेशन कैम्प चलाने वाले गिरोह का पर्दाफाश होने के बाद कोलकाता निगम वैक्सीन लगाने की प्रक्रिया को लेकर काफी अलर्ट हो गया है। शनिवार को ‘टॉक टू केएमसी’ कार्यक्रम के दौरान प्रशासक फिरहाद हकीम ने कहा कि फर्जी वैक्सीनेशन कैंप मामले में पुलिस जांच कर रही है। इस घटना के बाद प्रशासन अलर्ट हो गया है और मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे भी जागरूक हों। उन्होंने कहा कि कोलकाता नगर निगम के वैक्सीनेशन केन्द्र, सरकारी या बड़े निजी अस्पताल में ही वैक्सीन लगवायें। अगर कहीं कोई कैम्प या शिविर का आयोजन होता है तो वहां जाकर वैक्सीनेशन ना करायें।
पीड़ित लोगों की लगातार मॉनिटरिंग जारी
फिरहाद ने कहा कि कोलकाता के कसबा और सिटी कॉलेज में फर्जी वैक्सीन लेने वाले लोगों की सेहत पर नजर रखने के लिए कोलकाता मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल व निगम के चिकित्सकों की एक कमेटी गठित की गयी है। यह कमेटी फर्जी वैक्सीन लेने वाले लोगों की सेहत पर नजर रख रही है। फिरहाद ने कहा कि फर्जी वैक्सीनेशन कैंप की हम जांच करा रहे हैं। इस घटना में अगर निगम के कोई कर्मचारी या अधिकारी लिप्त पाये जाते हैं, तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
मैं देवांजन को नहीं पहचानता
संवाददाता सम्मेलन में पूछे गये एक सवाल के जवाब में फिरहाद ने कहा कि मैंने पहले कभी देवांजन देव से नहीं मिला। पिछले साल कोरोना महामारी के दौरान इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) की ओर से हमें हैंड सैनिटाइजर, मास्क और हैंड ग्लब्स दिये गये थे। निगम में आयोजित एक कार्यक्रम में आईएमए ने हमें उक्त उपकरण प्रदान किये थे। इसी कार्यक्रम में देवांजन भी उपस्थित था। यहीं उससे मेरी मुलाकात हुई थी। ​अगर कोई व्यक्ति मिलने आयेगा तो वह सही है या गलत, यह जानना मुश्किल है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ब्रेकिंगः कोविड काल में बंगाल में सिर्फ 27 बच्चे ही हुए अनाथ!

कोलकाताः सुप्रीम कोर्ट ने बंगाल सरकार को निर्देश दिया है कि राज्य में कोविड-19 के कारण अनाथ हुए सभी बच्चों को पीएम केयर्स फंड से आगे पढ़ें »

ऊपर