गरियाहाट डबल मर्डर केस : किसी परिचित ने योजना के तहत करायी हत्या !

घटनास्थल पर थ्री डी कैमरे से लेजर इमेजिंग ली गयी
स्निफर डॉग ने पुलिस को पहुंचाया घर से बालीगंज स्टेशन तक
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : गरियाहाट के कांकुलिया रोड में कार्पोरेट अधिकारी सुबीर चाकी और उसके ड्राइवर की हत्या के मामले में 48 घंटे बाद भी किसी की गिरफ्तारी नहीं हो पायी है। हत्या की जांच की गति जैसे-जैसे बढ़ रही है वैसे-वैसे रहस्य गहराते जा रहे हैं। कांकुलिया रोड स्थित सुबीर चाकी के मकान के दस्तावेज भी पुलिस ने बरामद किये हैं। इसमें महत्वपूर्ण बात यह है कि मकान के दस्तावेज सुबीर की कार के अंदर से मिले हैं। ऐसे में प्रश्न उठ रहा है कि क्या सुबीर को मकान खरीदने की बात कहकर वहां बुलाया गया और फिर योजना के तहत उसकी हत्या की गयी? रविवार की रात व्यवसायी सुबीर चाकी और उनके ड्राइवर का शव कांकुलिया रोड स्थित उनके पैतृक घर के अंदर से रक्तरंजित अवस्था में बरामद किया गया था। जांच की शुरुआत में थोड़ा धुआंसा होने के बाद अब धीरे-धीरे मामला साफ हो रहा है। इसके अलावा पुलिस को पता चला कि रविवार की रात 6.17 बजे तक सुबीर का मोबाइल ऑन था।
क्या हत्या के बाद ट्रेन से भागे हत्यारे
मंगलवार की सुबह कोलकाता पुलिस के स्निफर डॉग को घटनास्थल पर लाया गया। वहां पर स्निफर डॉग को घर में ले जाया गया। घर में कुछ देर रहने के बाद स्निफर डॉग घर से निकलकर सीधे बालीगंज रेलवे स्टेशन तक गया। बालीगंज स्टेशन के फुटओवर ब्रिज से होकर स्निफर डॉग 1 और 2 नं. प्लेटफॉर्म पर पहुंचा। ऐसे में जांच अधिकारियों का अनुमान है कि सुबीर व रबीन की हत्या करने के बाद हत्यारे बालीगंज स्टेशन से ट्रेन पकड़कर भागे हैं। लालबाजार सूत्रों के अनुसार मामले की जांच के लिए जल्द
ही बालीगंज स्टेशन के सीसीटीवी कैमरे के फुटेज को होमीसाइड विभाग के अधिकारी संग्रह कर जांच करेंगे। इसके अलावा अनुमान लगाया जा रहा है कि हत्या के समय एक से अधिक हत्यारे घटनास्थल पर मौजूद थे। हत्यारों में सुबीर चाकी का कोई परिचित भी शामिल हो सकता है। सूत्रों के अनुसार हत्यारों ने पहले सुबीर चाकी की हत्या की और फ‌िर उसके ड्राइवर रबीन मंडल की हत्या की। घटना के दिन वह कांकुलिया रोड स्थित घर के दस्तावेज लेकर वहां पहुंचा था। फिलहाल पुलिस जांच कर यह पता लगा रही है कि कांकुलिया रोड की संपत्त‌ि के लिए सुबीर की हत्या की गयी या फिर उसके पीछे कोई व्यक्तिगत कारण है। वहीं दूसरी ओर मंगलवार को घटनास्थल पर थ्रीडी कैमरे के जरिए तस्वीर लेने के साथ ही वीडियो बनायी गयी। इस दौरान अधिकारियों ने घटनास्थल पर किसी तरह के हाथ व खून के निशान का पता लगाया। इसके अलावा होमीसाइड विभाग के अधिकारियों ने सुबीर चाकी के कार्यालय में जाकर लोगों के बयान दर्ज किए।
लॉकडाउन से पहले मुंबई में रहते थे सुबीर
पुलिस सूत्रों के अनुसार जांच के दौरान पता चला कि सुबीर चाकी वर्ष 2020 के पहले लॉकडाउन से पहले मुंबई में रहते थे। लॉकडाउन के बाद वह कोलकाता आकर न्यू टाउन में रहने लगे। न्यूटाउन के अलावा उनका आनंदपुर के एक बड़े अपार्टमेंट में भी फ्लैट है। सुबीर ने आईआईटी खड़गपुर से पढ़ाई की थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

चुनाव आयोग के निर्धारित खर्च को वहन करेगी भाजपा

फिर उठा रुपये और कार्यकर्ताओं की कमी का मुद्दा सन्मार्ग संवाददाता, कोलकाता : मंगलवार को भी आईसीसीआर में प्रदेश भाजपा नेतृत्व ने बाकी के उम्मीदवारों के आगे पढ़ें »

ऊपर