गंगासागर मेले में संक्रमण रोकने के लिए सरकार ने क्या उपाय किए हैं

कलकत्ता हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से हलफनामा दाखिल करने को कहा
मनुष्य का जीवन पहले और आस्था बाद में
कोलकाता : अगर इस साल गंगासागर मेला की अनुमति दी जाती है तो राज्य सरकार ने संक्रमण की रोकथाम के लिए क्या कदम उठाए हैं। इसे लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को शुक्रवार की दोपहर दो बजे तक हलफनामा पेश करने को कहा है। हाईकोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि धार्मिक प्रथाओं और विश्वासों की तुलना में मनुष्य का जीवन बहुत ही महत्वपूर्ण है। गंगासागर मेले को कंटेनमेंट जोन घोषित किए जाने से जुड़ी एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट के डिविजन बेंच ने कहा कि यह सरकार पर निर्भर करता है कि वह अपने सुझावों को कोर्ट के सामने पेश करे कि किस तरह मेला को इस साल के लिए नियंत्रित या रेगुलेटेड और फिर बंद किया जा सकता है। कलकत्ता हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश टीबीएन राधाकृष्णन एवं जस्ट‌िस अरिजीत बनर्जी ने शुक्रवार की दोपहर 2 बजे तक हलफनामा देने को कहा है। डिविजन बेंच ने कहा कि हलफनामे को राज्य सरकार के एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी की ओर से प्रस्तुत किया जाए, जिसमें साफ तौर पर बताया जाए कि अगर गंगासागर मेला की अनुमति दी जाती है तो मेले में आने वाले लोगों को संक्रमण मुक्त करने के लिए क्या-क्या कदम उठाए जाने चाहिए। डिविजन बेंच ने निर्देश दिया कि सरकार की तरफ से आने वाले सुझावों में गंगा तट पर भीड़ नियंत्रण के साथ सड़क, भोजनालय, शौचालय सहित अन्य जगहों पर लोगों के भीड़ नियंत्रण जैसी बातों पर सुझाव जरूरी है। सरकार की ओर से रिपोर्ट में फिजिकल डिस्टेंसिंग, मास्क के इस्तेमाल, सैनिटाइजेशन सहित अन्य चीजों का भी उल्लेख करना होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

गणतंत्र दिवस: पहली परेड कब हुई थी? जानिए ऐसे सवालों के जवाब

गणतंत्र दिवस क्या है और ये क्यों मनाया जाता है? भारत 15 अगस्त 1947 को आज़ाद हुआ था और 26 जनवरी 1950 को इसके संविधान को आगे पढ़ें »

जानें मंगलवार के दिन किस उपाय को करने से मिलता है क्या लाभ

कोलकाता : मंगलवार का दिन बजरंगबली को समर्पित होता है। हनुमान जी एक ऐसे देवता हैं जिनकी पूजा में सावधानी बहुत जरूरी है। मंगलवार को आगे पढ़ें »

ऊपर