साहुडांगी के शवदाह गृह में बढ़े कोरोना से अंतिम संस्कार के मामले

साहुडांगी के शवदाह गृह में बढ़े कोरोना से अंतिम संस्कार के मामले
-औसतन आ रहे है 5 से 7 कोरोना रोगियों के शव
-1700 लोगों का हो चुका है शवदाह
सिलीगुड़ी: सिलीगुड़ी में बढ़ते कोरोना रोगियों की संख्या से पहले ही जिला स्वास्थ्य विभाग की नींद उड़ी है। इसी बीच कोरोना से मौत के मामले भी बढ़ने लगे है। सिलीगुड़ी के साहुडांगी में तैयार विद्युत श्मशान को लगभग एक वर्ष पहले कोरोना रोगियों के अंतिम संस्कार के लिए लिया गया था। बीच में कोरोना से मौत का मामला कम होने के बाद पिछले तीन सप्ताह में साहुडांगी के विद्युत शवदाह गृह अंतिम संस्कार के लिए रोजाना औसत मामले 5 से 7 आ रहे है। दावा किया जा रहा है कि इसमें अधिकतर मामले जलपाईगुड़ी जिले से है। शवदाह गृह में काम करने वाले लोगों की माने तो मार्च के बाद से ही कोरोना संक्रमित होकर मरने वाले लोगों की संख्या में बढ़ोत्री हुई है। इसके बाद भी लोग लापरवाही बरतने में कोई कमी नहीं छोड़ रहे है। अगर इसी तरह से चलता रहा तो आने वाले दिनों में अस्पताल से लेकर श्मशान घाट तक जगह की कमी होने लगेगी।
पुरे देश में कोरोना को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। हाल ही में सोशल मीडिया पर एक तस्वीर तेजी से वायरल हो रहा है। उसमें दावा किया जा रहा है कि भोपाल में एक साथ 40 कोरोना रोगियों के शव जलाये जा रहे है। कोरोना संक्रमित होकर मारे जाने वाले व्यक्तियों के अंतिम संस्कार के लिए घंटों इंतजार करना पड़ा रहा है। लेकिन अभी तक सिलीगुड़ी में परिस्थिती स्वास्थ्य विभाग के काफी नियंत्रण में है। दार्जिलिंग जिला के सीएमओएच प्रलय आचार्य ने कहा कि दार्जिलिंग जिले में कोरोना से मरने वालों की संख्या 1.2 प्रतिशत है। जलपाईगुड़ी जिले में ये आकड़ा ज्यादा है। जबकी कोरोना से स्वस्थ्य होकर लौटने वाले रोगियों की संख्या काफी कम है। इन आकड़ों ने जिला स्वास्थ्य विभाग की परेशानी को बढ़ा दिया है। जिला स्वास्थ्य विभाग सूत्रों की माने तो सरकारी निर्देश के अनुसार फिलहाल के लिए दार्जिलिंग जिले के दो प्राइवेट अस्पतालों से भी कोरोना यूनिट को हटा दिया गया है। जिससे की रोगियों को कोरोना के इलाज के लिए होम क्वारंटाईन तथा उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज पर ही निर्भर करना होगा। अगर इसी तरह से लोग कोरोना को लेकर लापरवाही करते रहे तो परिस्थिती काबू से बाहर जाने में समय नहीं लगेगा।
साहुडांगी के विद्युत शवदाह गृह में काम करने वाले एक डोम रामकुमार ने बताया कि वहां दार्जिलिंग तथा जलपाईगुड़ी जिले से कोरोना रोगियों के शव आते है। उस शवदाह गृह में को मार्च 2020 में कोरोना रोगियों को जलाने के लिए लिया गया था। तब से लगातार इसका उपयोग किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि उत्तर बंगाल में सबसे पहले कोरोना से संक्रमित होकर मारे गई कालिंगपोंग की महिला का शव दाह किया गया था। तब से लगातार चल रहा है। पिछले 13 महीने में वहां 1700 शव कोरोना रोगियों के जलाये जा चुके है। जिसमें हर उम्र्र के लोग शामिल है। उन्होंने बताया कि इस काम को करने के लिए उन लोगों को सरकार की ओर से केवल पीपीई किट मुहैया कराया जाता है। उन्होंने बताया कि नवंबर दिसंबर से लेकर फरवरी तक शवदाह गृह में कोरोना से मरने वाले लोगों के मामले आने कम हो गये थे लेकिन पिछले तीन चार सफ्ताह से संक्रमित होकर मरने वाले लोगों का मामला तेजी से बढ़ा है। हर रोज शवदाह गृह में अंतिम संस्कार के लिए औसतन मामले 5 से 7 आ रहे है। कभी कभी आकड़ा 10 तक तक पहुंच जाता है। उन्होंने बताया कि अगर कोई अस्ती लेना चाहे तो उसे सैनिटाइज करने के बाद परिजनों को सौप दिया जाता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भाजपा के सैनिक के तौर पर मेरी लड़ाई रहेगी जारी : मुकुल राय

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और वरिष्ठ नेता मुकुल राय ने पार्टी छोड़ने की सभी तरह की अफवाहों पर विराम लगाते हुए कहा आगे पढ़ें »

लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन ले जा रहे टैंकर्स से नेशनल हाईवे पर नहीं ली जाएगी टोल फीस

नई दिल्ली : देश के नेशनल हाईवे पर लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन ले जाने वाले टैंकरों और कंटेनरों को निर्बाध मार्ग प्रदान करने के लिए, टोल आगे पढ़ें »

ब्रेकिंगः अब शर्तों को मानकर कोविड शवों का संस्कार सीधे करा सकेंगे परिजन

रोजाना गर्म पानी पीते हैं तो रुक जाइए, जान लीजिए सरकार का नया दावा

महिला हॉकी : कप्तान रानी समेत 6 सदस्यों ने दी कोरोना को मात

बड़ा फैसला: सुप्रीम कोर्ट ने गठित की राष्ट्रीय टास्क फोर्स, ऑक्सीजन के वितरण-मांग पर रखेगी नजर

राजस्थान के घर-घर में हर सप्ताह दो बार होगा हनुमान चालीसा का पाठ, जानें कारण

उत्तर प्रदेश में निकल चुका है कोरोना का पीक, पॉजिटिविटी रेट में भी आई कमी

शॉर्ट स्कर्ट पहनकर रश्मि देसाई ने किया डांस, यूजर्स ने किए ऐसे भद्दे कमेंट कि…

गर्मी के मौसम में गर्भवती महिलाएं इस तरह रखें ख्याल, जानें टिप्स

ऊपर