कानून पर पूरा भरोसा, जब्त रुपये से तृणमूल का लेना-देना नहीं : तृणमूल

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : शनिवार को राज्य के मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद शाम को तृणमूल की ओर से तृणमूल भवन में संवाददाता सम्मेलन किया गया। संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए तृणमूल के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि तृणमूल को कानून-व्यवस्था पर पूरा भरोसा है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि किसी महिला (अर्पिता मुखर्जी) के घर से जब्त किये गये रुपये से पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है। संवाददाता सम्मेलन में राज्य के मंत्री फिरहाद हकीम, अरूप विश्वास और चंद्रिमा भट्टाचार्य भी मौजूद थे। कुणाल घोष ने कहा, ‘एक घटना घटी है। ​जो घटा, उस बारे में सबसे पहले ईडी सूत्रों के मार्फत से पता चला। बताया गया कि भद्र महिला (अर्पिता मुखर्जी) के घर से रुपये मिले हैं। हालांकि सब कुछ केवल ईडी के सूत्रों से ही पता चला है और जिसके बारे में कहा जा रहा है, उसका पक्ष पूरी तरह नहीं मिल पाया है।’ कुणाल घोष ने कहा कि तृणमूल का जब्त रुपये से कोई लेना-देना नहीं है। जिसके घर से रुपये मिले, वह तृणमूल की कोई नहीं है, टीएमसी से उसका कोई संपर्क नहीं है। जब्त रुपयों के बारे में वह व्यक्ति या उनके वकील जवाब दे पायेंगे। कुणाल घोष ने कहा कि पार्थ चटर्जी को गिरफ्तार किया गया है। तृणमूल को कानून पर पूरा विश्वास है, मामला कोर्ट में गया है। इससे पहले भी इस तरह की गिरफ्तारियां देखने को मिली हैं। इतने रुपये कहां से आये, इसकी जांच करनी होगी। इसके पीछे कौन है, इसमें कहानी ना गढ़कर जांच जल्द से जल्द खत्म कर कोर्ट में बताना होगा। सवाल यह भी उठता है कि जहां नोटबंदी हुई थी, वहां इतने गैर – कानूनी रुपये कहां से आये ? इसके साथ ही कुणाल घोष ने कहा कि पार्थ चटर्जी अगर दोषी प्रमाणित होते हैं तो तृणमूल पार्टी व सरकार के तौर पर जो कदम उठाना है, उठायेगी। इधर, मंत्री फिरहाद हकीम ने कहा कि पार्थ चटर्जी भी अगर वॉशिंग मशीन (भाजपा) में चले जाते तो उनके खिलाफ जांच नहीं होती। वह टीएमसी में हैं जिस कारण जांच हो रही है। मैं भी वॉशिंग मशीन में नहीं गया था जिस कारण मुझे भी जेल जाना पड़ा था। भाजपा में जो हैं वे साधु हैं और टीएमसी में सब चोर हैं। शुभेंदु अधिकारी के ट्वीट पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि ट्वीट में उन्होंने स्पष्ट करने की कोशिश की कि उस महिला के साथ हमारा संपर्क है, लेकिन जब सुदीप्त सेन ने खुद संवाददाता सम्मेलन कर शुभेंदु अधिकारी का नाम लिया था तो उनके खिलाफ जांच क्यों नहीं की गयी। केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल राजनीतिक कारणों से किया जा रहा है। मंत्री अरूप विश्वास ने कहा कि 21 जुलाई की ऐतिहासिक सभा में तृणमूल के प्रति समर्थन देखकर भाजपा डर गयी है। यही कारण है ​कि वह ऐसा कर रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

स्वतंत्रता दिवस के पहले हुगली में हथियारों का जखीरा जब्त, 8 गिरफ्तार

हुगली : स्वतंत्रता दिवस के 24 घंटे पहले हुगली जिले के चुंचुड़ा थाने की पुलिस ने कोडलिया मानसटला में छापेमारी कर भारी मात्रा में आग्नेयास्त्र, आगे पढ़ें »

इन लोगों के लिए तरक्‍की के नए रास्‍ते खोलेगा यह सप्‍ताह, पढ़ें अपना टैरो राशिफल

कोलकाता सीबीआई के अधिकारी को मिला केन्द्रीय गृह मंत्री पदक

बंगालः नाव पलटने से दामोदर में बहे दो लोग

दलित छात्र ने घड़े से पिया पानी तो वहशी बन गया टीचर, ताबड़तोड़…

इन तीन लोगों को अपने घर डिनर पर बुलाना चाहते थे झुनझुनवाला, नहीं पूरा हो पाया सपना

अंधेरे के फायदा उठाकर कैनिंग में तृणमूल समर्थक को मारी गयी गोली, 4 गिरफ्तार

ब्रेकिंग: अलविदा राकेश झुनझुनवाला, ब्रीच कैंडी अस्पताल में आखिरी सांस ली

जानिए चेहरे पर क्यों आते हैं मुंहासे, इन्हें जड़ से खत्म कर देंगे यह घरेलू उपाय

स्वाधीनता दिवस पर 288 के बजाय 188 मेट्रो सर्विसेज

ऊपर