दोस्ती, प्यार फिर धोखा : पहले फेसबुक पर दोस्ती, फिर प्यार और फिर किया मर्डर

साफ्टवेयर इंजीनियर की हत्या करने के आरोप में प्रेमिका को सीबीआई ने दबोचा
नेहा सिंह
कोलकाता : पहले फेस बुक पर दोस्ती, फिर प्यार और इसके बाद जो हुआ उसकी कल्पना कर के राएं सिहर जायेंगे। यानी इसके बाद हुई हत्या, वह भी बेरहमी से। हत्या की गयी गोली मार कर लेकिन सबूत मिटाने के लिए इसे सड़क दुर्घटना करार दिया गया। मामला पहले सीआईडी के पास गया। मामले में बंगाल के एक बड़े उद्योगपति की बहू शामिल थी इसलिए जान सकते हैं कि इसे काफी पेचीदा बना दिया गया। कई अफसर बदले गये लेकिन हुआ कुछ नहीं। अंत में पिछले साल कलकत्ता हाईकोर्ट ने इस मामले को सीबीआई को दिया और अंत में गिरफ्तार हुई वह करोड़पति युवती।
सीबीआई ने साफ्टवेयर इंजीनियर जूनियर मिर्धा की हत्या के मामले में सोमवार की देर रात उद्योगप​ित बलराम चौधरी की पूर्व पुत्रवधू प्रियंका चौधरी को गिरफ्तार किया। सीबीआई सूत्रों ने कहा कि प्रियंका उर्फ ​​मून को पूछताछ के लिए बुलाया गया था। वह किसी भी सवाल का जवाब संतोषजनक नहीं दे पायी। इसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। मिर्धा से लगभग 3 साल पहले फेस बुक से दोस्ती की थी प्रियंका चौधरी ने। दोनों का प्यार परवान चढ़ा। पहले यह पता नहीं था कि प्रियंका शादी शुदा है लेकिन बाद में जब पता चला तो वह बोलने लगीु कि मैं अपने पति को तलाक दे दूंगी लेकिन उसके मन में कुछ और ही चल रहा था। बेलघरिया के रहने वाले मिर्धा के घर उसका आना जाना था। किसी को 12 जुलाई 2011 को भी संदेह नहीं हुआ जब एक फोन मर जूनिय बाहर निकला लेकिन इसके बाद वह वापस नहीं आया। वापस आयी तो उसकी लाश।
यह थी घटना
सॉफ्टवेयर इंजीनियर जूनियर मिर्धा का शव 12 जुलाई, 2011 को बेलघरिया एक्सप्रेसवे पर पाया गया था। शुरू में हिट-एंड-रन केस जैसा यह मामला दिख रहा था, लेकिन जब पुलिस को उसके सिर पर गोली लगने का निशान मिला तब इसकी छानबीन शुरू की गयी। पिछले साल, कलकत्ता हाई कोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई ने मामला दर्ज कर लिया। पुलिस को कुछ सुराग मिले जिसके बाद मामले में प्रियंका का नाम सामने आ गया। पूछताछ में वह संतोषजनक जवाब नहीं दे पायी। अब टॉलीवुड में एक दोस्त की तलाश है जिससे घटना की रात फोन पर उसने कई बार बात की थी। जांच में पाया गया ​िक जूनियर मिर्धा का मुनमुन उर्फ पि्रयंका चौधरी से प्रेम संबंध था और 2011 में 12 जुलाई को मुनमुन ने फोन करके को साल्टलेक में बुलाया था। इसके बाद रात को पुलिस ने सूचना दी कि बेलघरिया एक्सप्रेस हाईवे पर मिर्धा की एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई है। पीएम रिपोर्ट के बाद यह खुलासा हुआ कि मिर्धा की गोली मार कर हत्या की गई थी। इसके बाद ही यह भी खुलासा हुआ था कि मुनमुन चौधरी एक शादीशुदा महिला है और उसका नाम प्रियंका चौधरी है। इस मामले में बलराम चौधरी, जयदीप चौधरी, प्रियंका चौधरी और प्रतीप शर्मा का पॉलिग्राफी टेस्ट किया गया था। जस्टिस अभिजीत गांगुली ने सीआईडी जांच को नाकाफी बताते हुए इसकी जांच सीबीआई को सौंप दी थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

tmc

तृणमूल पार्टी ऑफिस में तोड़फोड़ एवं झंडा जलाने का आरोप

बीजपुरः नैहाटी विधानसभा के माझीपाड़ा-पलासी ग्राम पंचायत अंतर्गत धरमपुर स्थित तृणमूल पार्टी आफिस में तोड़फोड़ एवं राष्ट्रीय झंडा समेत तृणमूल का झंडा जलाने को लेकर आगे पढ़ें »

बच्चे को गहने पहना कर हो रही थी तस्करी, पकड़ाया

कोलकाता : सीमा सुरक्षा बल ने एक बच्चे सहित तस्कर को आभूषणों सहित अवैध तरीके से अंतर्राष्ट्रीय सीमा पार करते हुए गिरफ्तार किया। सीमा चौकी आगे पढ़ें »

ऊपर