सांसद व विधायक के नाम पर नकली मेल कर की जालसाजी, गिरफ्तार

पंचायत को भेजे गये मेल की जांच की जाने पर हुआ खुलासा
अभियुक्त ने स्वीकारा अपराध
बशीरहाट : पहले सरकारी अधिकारियों के नकली हस्ताक्षर और फिर नकली मेल बनाकर सांसद व विधायक फंड के रुपयों को हड़पने के आरोप में बशीरहाट ​अंचल के बादुड़िया थाने की पुलिस ने अभियुक्त अरिजुल शेख को गिरफ्तार कर लिया है। मिली जानकारी के अनुसार अभियुक्त ने उत्तर 24 परगना के भूमि व भूमि विकास विभाग के प्लानिंग ऑफिसर के नकली हस्ताक्षर कर एक नकली मेल अकाउंट बनाया और उसी मेल के जरिये ​उसने बशीरहाट उत्तर विधानसभा के तहत आने वाले चैता व बादुड़िया विधानसभा क्षेत्र के तहत आने वाले चातरा ग्राम पंचायत को उसी अकाउंट से मेल किया। मेल में अभियुक्त ने लिखा था कि बशीरहाट सांसद, बशीरहाट उत्तर विधायक व बादुड़िया विधायक फंड की ओर से इन ग्राम पंचायतों के विकास के लिए लाखों रुपये आवंटित किये गये हैं अतः फंड जल्दी अकाउंट में जाये और वे लोग जल्द से जल्द रुका काम पूरा करें। इसको लेकर काम में लगे कुछ सरकारी अधिकारियों ने जब मेल को चेक किया तो उन्हें आशंका हुई और बाद में जांच किये जाने पर मेल आईडी नकली पाया गया। साथ ही संबंधित विभाग से कार्यालय में भेजे गये दस्तावेज भी नकली पाये गये जिसको लेकर उन्होंने विभागीय अधिकारियों को इसकी खबर दी, साथ ही पुलिस में इसकी शिकायत दर्ज करवायी। मामले की छानबीन करते हुए पुलिस ने अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया। उसके मोबाइल फोन को चेक करने पर पाया गया कि उसी फोन से वह मेल पंचायतों के मेल आईडी पर किये गये थे। वहीं कई तरह के कार्यों को करने के लिए पंचायत की ओर से विधायक व सांसद फंड की मांग करते हुए भी विभागों में मेल भेजे गये थे। प्राथमिक पूछताछ में अभियुक्त ने स्वीकार किया कि उसने फंड के रुपये गबन करने के उद्देश्य से ऐसा किया था। अभियुक्त को बुधवार को ही बशीरहाट कोर्ट में पेश किया गया जहां से कोर्ट ने उसे पुलिस हिरासत में भेज दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सावधान! 26 जनवरी से पहले राज्य में हो सकता है बड़ा माओवादी हमला

कोलकाताः इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि पुरूलिया और खड़गपुर सेक्‍शन के रेलवे लाइन पर 26 जनवरी के पहले बड़ा माओवादी हमला आगे पढ़ें »

ऊपर