जिनका कोई नहीं, उनका तो ‘खुदा’ है यारों

कोविड काल में फुटपाथ में रहने वालों के लिए मददगार बना मेडिकल बैंक
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : जिनका कोई नहीं, उनका तो खुदा है यारों। लावारिस फिल्म का यह सुपर हिट गीत इन दिनों कोलकाता के फूटपाथ में रहने वालों के लिए फिट बैठ रहा है। दरअसल, इस महामारी काल में फुथपाथों पर रहने वाले लोगों के लिए मेडिकल बैंक आगे आया है। मेडिकल बैंक की तरफ से 20 लोगों की टीम रास्तों पर उतरकर फूटपाथ पर रहने वालों की हेल्थ चेकअप व जागरूकता का जिम्मा उठाया है। मेडिकल बैंक के सचिव डी आशिष ने बताया कि रास्तों पर रहने वालों के अलावा रिक्शा चलाने वाला, खलासी से लेकर अन्य जरूरतमंदों को हमलोग पहले कोरोना को लेकर जागरूक कर रहे हैं। उनका हेल्थ चेकअप भी कर रहे हैं। इस कार्य में जोड़ाबागान ट्रैफिक गार्ड की तरफ से भी मदद मिली है।
ऐसे कर रहे हैं मदद
कोलकाता के विभिन्न फुटपाथों पर मेडिकल बैंक की तरफ से 20 लोगों की टीम एक एबुंलेंस के साथ जा रही है। वहां उनका ऑकसीजन स्तर, बुखार की जांच की जा रही है। अगर किसी में समस्या देखी जा रही है तो उन्हें स्थानीय हेल्थ सेंटर में जाने के लिए कहा जा रहा है। डी आशिष ने बताया कि अभी तक शोभाबाजार, बागबाजार, नीमतल्ला घाट इलाका, बीके पाल रोड स्थित विभिन्न जगहों पर 200 से अधिक लोगों की जांच की गयी। कई लोगों के ऑक्सीजन स्तर काफी कम थी मगर वे फिर भी खुद को स्वस्थ्य महसूस कर रहे थे। वहीं कुछ को हल्का बुखार भी था जिन्हें तुरंत स्थानीय हेल्थ सेंटर में जाने को कहा गया। इसके अलावा रिक्शावाला लेकर गाड़ी के खलासियों का हेल्थ चेक अप होगा। इसके अलावा गरियाहाट, टालीगंज, जग्गूबाबू बाजार, हेस्टिंग इन सभी इलाकों में फुटपाथ पर रहने वालों का भी ऑक्सीजन स्तर की जांच, बुखार की जांच की जायेगी। उन्होंने कहा कि कई लोग तो ऐसे भी मिले जिन्हें कोरोना के बारे में ठीक से पता भी नहीं है। हमारा मकसद है कि इन लोगों को भी कोविड के बारे में पूरी जानकारी मिले। मास्क पहने, हाथ समय समय पर धोते रहें तथा अन्य गाइडलाइन का पालन करें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आज अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

कोलकाताः आज सातवां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। बता दें कि हर साल 21 जून को योग दिवस मनाया जाता है। साल 2015 आगे पढ़ें »

योग की शुरुआत करने वालों के लिए …

कोलकाताः दुनियाभर में हर साल 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। योग की उत्पत्ति हजारों साल पहले पहले की मानी जाती है। आगे पढ़ें »

ऊपर