मॉल्स खुलने के एक महीने में दोगुना से अधिक बढ़ा फुटफॉल

कन्वर्जन रेट भी पहले की तुलना में काफी अधिक
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोरोना वायरस की लहर के बीच राज्य सरकार ने गत 16 जून से महानगर के सभी शॉपिंग मॉल्स खोलने की घोषणा की थी। ऐसे में कोविड नियम मानते हुए मॉल्स खोले गये और अब मॉल्स खुलने के एक महीने बीत चुके हैं। इन एक महीने में महानगर के शॉपिंग मॉल्स का बिजनेस भी अच्छा हुआ है और मॉल्स जल्द से जल्द रिकवरी की ओर हैं। बीते एक महीने में फुटफॉल दोगुना से भी अधिक बढ़ा है और कन्वर्जन रेट भी इस बार काफी अच्छा है।
वीकेंड पर मॉल की पार्किंग हो रही फुल
साउथ सिटी मॉल प्रोजेक्ट्स के वाइस प्रेसिडेंट मनमोहन बागड़ी ने बताया, ‘वीकेंड पर मॉल की पार्किंग फुल हो रही है। पिछले एक महीने में लगभग ढाई गुना फुटफॉल हुआ है। मॉल खुलने के बाद शुरुआत में जहां 8 से 10 हजार ग्राहकों की भीड़ होती थी, वहीं अब ये भीड़ लगभग 30 से 35 हजार हो रही है। फूड कोर्ट में भी काफी संख्या में ग्राहक आ रहे हैं।’ कन्वर्जन रेट के बारे में उन्होंने कहा, ‘पहले लोगों की भीड़ होती थी, लेकिन कन्वर्जन रेट 10% होता था, लेकिन अब ये कन्वर्जन रेट 40 से 50% तक हो रहा है जो काफी अच्छा है।’
50% क्षमता के बावजूद अच्छा हो रहा बिजनेस
मॉल प्रबंधन का कहना है कि अभी 50% क्षमता के साथ ही मॉल ऑपरेट हो रहे हैं, लेकिन सीरियस बायर्स आने के कारण बिजनेस अच्छा हो रहा है। अम्बुजा नेवटिया ग्रुप के होलटाइम डायरेक्टर (मार्केटिंग एण्ड इवेंट्स) रमेश पाण्डेय ने कहा, ‘वैक्सीन लगाने के बाद लोगों के मन में डर कम हो गया है। जब मॉल खुले थे तो सिटी सेंटर 1 में 8,000 और 2 में केवल 4,000 ग्राहकों की भीड़ हो रही थी। वहीं अब ये संख्या बढ़कर 20 से 22 हजार पर पहुंच गयी है। पहले कन्वर्जन रेट केवल 30 से 35% होता था जो अब 70% तक पहुंच गया है। अभी एण्ड ऑफ सीजन सेल चालू ही हुआ है, ऐसे में अगले सप्ताह से मॉल में भीड़ और बढ़ने की उम्मीद है।’
एक महीने में 10% से अधिक बढ़ा फुटफॉल
एक्रोपॉलिस मॉल के जीएम के. विजयन ने बताया, ‘कोविड नियमों के साथ एक महीने पहले मॉल खुले हैं। उस समय परिवहन की स्थिति ठीक नहीं थी, लेकिन अब मॉल का समय कुछ बढ़ाने और परिवहन चलने के बाद फुटफॉल भी पहले की तुलना में काफी बेहतर हुआ है। फूड कोर्ट और फाइन डाइनिंग सेक्शन में ग्राहकों की अच्छी भीड़ देखी जा रही है। अप्पारेल और ज्वेलरी भी अच्छा बिजनेस कर रहे हैं। पिछले एक महीने में फुटफॉल 10% से अधिक बढ़ा है। हालांकि एंटरटेनमेंट जोन अब भी बंद है और रेस्टोरेंट का समय कम होने के कारण अब भी फुटफॉल पूरी तरह स्वाभाविक नहीं हो पाया है।’
रेस्टोरेंट बिजनेस में डिनर में हो रही समस्या
रेस्टोरेंट खुलने का समय रात 8 बजे तक ही रहने के कारण डिनर के बिजनेस को काफी नुकसान झेलना पड़ रहा है। इसका कारण है कि 8 बजे डिनर का समय काफी कम है। इस कारण होम डिलीवरी या टेक अवे के अलावा कोई विकल्प नहीं रह जा रहा है जिस कारण डिनर के बिजनेस में नुकसान हो रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

घर में कुआं खोद रहा था शख्स, मिला 7.5 अरब रुपये का नीलम

नई दिल्ली : कहते हैं किस्मत कब पलट जाए, कुछ नहीं कहा जा सकता है। ऐसा ही कुछ हुआ श्रीलंका के कोलंबो में एक शख्स आगे पढ़ें »

ऊपर