दक्षिण बंगाल में बाढ़, सेना उतरी

घाटाल में बाढ़ के पानी में डूबकर बच्चे की मौत
सेना के 7 कॉलम राहत कार्यों के लिए किये गये तैनात
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : लगातार बारिश के बाद अब दक्षिण बंगाल के विभिन्न जिलों में बाढ़ की भयावह स्थिति उत्पन्न हो गयी है। सेना के 7 कॉलम राहत कार्यों के लिए दक्षिण बंगाल के 3 जिलों में तैनात किये गये हैं। इस बीच, घाटाल में बाढ़ के पानी में डूबकर एक 6 वर्षीय बच्चे की मौत हो गयी। मुख्य रूप से दक्षिण बंगाल के 5 जिलों हावड़ा, हुगली, पश्चिम बर्दवान, बीरभूम और बांकुड़ा में बाढ़ की स्थिति है। इसके अलावा घाटाल में भी स्थिति काफी खराब हो गयी है। राज्य सरकार की ओर से डीवीसी पर बगैर बताये पानी छोड़े जाने का आरोप लगाया गया है।
इस कारण हुई बाढ़ की स्थिति
फिलहाल निम्न दबाव झारखण्ड की ओर चला गया है जिस कारण वहां भारी बारिश हो रही है। इस कारण बारिश का पानी इस राज्य की ओर आ रहा है और ऐसे में बैरेजों पर दबाव बढ़ रहा है। यह दबाव कम करने के लिए बैरेज द्वारा पानी छोड़ा जा रहा है जिस कारण बाढ़ की स्थिति हुई है।
इतना पानी छाेड़ा गया
शुक्रवार की सुबह मैथन डैम से 80 हजार क्यूसेक और पंचेत से 55 ह​जार क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। इधर, दूसरी ओर, दुर्गापुर बैरज से डेढ़ लाख क्यूसेक से अधिक पानी छोड़ा गया।
3 जिलों में तैनात की गयी सेना
द​क्षिण बंगाल के 3 जिलों में सेना के 7 कॉलम तैनात किये गये हैं। इनमें पश्चिम बर्दवान में 2 कॉलम, हुगली में 3 और हावड़ा में 2 कॉलम तैनात किये गये हैं। सेना के प्रत्येक कॉलम में 70 जवान रहते हैं। सेना के अधिकारियों की ओर से बताया गया, ‘सेना की टीम द्वारा बाढ़ प्रभावित इलाकों से अब तक लगभग 91 लोगों का उद्धार किया जा चुका है।’सेना के अलावा एनडीआरएफ (नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स), एसडीआरएफ (स्टेट डिजास्टर रिस्पांस फोर्स) और सिविल डिफेंस की टीमें भी राहत व बचाव कार्यों के लिए तैनात की गयी हैं।
दक्षिण बंगाल में हुई रिकॉर्ड बारिश
इस बार दक्षिण बंगाल के वि​भिन्न जिलों में रिकॉर्ड बारिश दर्ज की गयी है। पश्चिम बर्दवान के आसनसोल में पिछले 24 घण्टों में रिकॉर्ड 434.5 मि.मी. बारिश दर्ज की गयी जबकि बांकुड़ा में 354.3 मि.मी. बारिश हुई। इसी तरह दुर्गापुर में 200 मि.मी., पुरुलिया में 170 मि.मी., कंसावती में 140 मि.मी. और फूलबेड़िया में 110 मि.मी. बारिश रिकॉर्ड की गयी।
नदियों का पानी खतरे के निशान से ऊपर
लगातार बारिश के कारण अजय नदी का बांध मंगलकोट के कुमारपुर में टूट गया है जब​कि द्वारकेश्वर नदी का पानी भी खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है। इस कारण पूर्व बर्दवान के मंगलकोट, आउसग्राम, भातार ब्लॉक में नदियों का पानी गांवों में घुस रहा है। आउसग्राम के सांतल धुकुर गांव के पास भी अजय नदी का बांध टूटने के कारण आस-पास के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया ​गया है।
बाढ़ के पानी में डूबकर बच्चे की मौत
घाटाल में बाढ़ का पानी ही बच्चे की मौत का कारण बन गया। बाढ़ के पानी में डूबकर 6 वर्ष के बच्चे की मौत हो गयी। घाटाल 6 नं. वार्ड के गंभीरनगर में 6 वर्षीय सौम्यजीत अपने घर के बरामदे में बाढ़ के पानी के बीच ही खेल रहा था। हालांकि पता ही नहीं चला कि कब बरामदे का जल स्तर बढ़ गया और उस पानी में डूबकर बच्चे की मौत हो गयी। लगातार बारिश, डीवीसी से पानी छोड़ने, मुकुटमणिपुर के जलाधार से ऊपर बहकर आता कंसावती नदी के पानी के कारण पश्चिम मिदनापुर के घाटाल, चंद्रकोणा, पटाशपुर, भगवानपुर समेत एकाधिक महकमों में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। आरोप है कि केलेघाई नदी बांध का मरम्मत समय पर नहीं किये जाने के कारण ऐसी स्थिति हुई है। यहां के 20-25 गांवों में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। वहीं घाटाल ब्लॉक के अधिकतर कच्चे मकान टूट जा रहे हैं।
हावड़ा के ग्रामीण इलाकों की स्थिति भी हुई खराब
हावड़ा के ग्रामीण इलाकों की स्थिति भी बाढ़ के कारण खराब हो गयी है। बाढ़ का पानी हावड़ा के आमता व उदयनारायणपुर में घुस रहा है। शिवानीपुर के 5 जगहों पर बांध टूटने की खबरें आयी हैं। शुक्रवार की सुबह उदयनारायणपुर में हावड़ा की डीएम मुक्ता आर्या समेत अन्य अधिकारियों ने दौरा किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सेल कर्मियों के पर्क्स पर 26.50 प्रतिशत पर बनी सहमति

बर्नपुर : आईएसपी सहित सेल कर्मियों के वेज रिविजन को लेकर गुरुवार को नई दिल्ली में एनजेसीएस की बैठक बुलाई गई। बैठक में पिछले पर्क्स आगे पढ़ें »

ऊपर