पहले मां पर धारदार हथियार से हमला किया फिर खुद को…

knife_attack

हावड़ाः यह खबर इस बात का उदाहरण है कि घरेलू हिंसा कितनी भयानक हो सकती है। यहां बाली में बेटे ने गुस्से में आकर अपनी मां पर धारदार हथियार से हमला कर दिया और खुद फांसी के फंदे से लटक गया और अपनी जान दे दी। बाली के निश्चिंडा थाना क्षेत्र के शांतिनगर की रहने वाली वृद्ध महिला अभी भी गंभीर हालत में है और उन्हें इलाज के लिए बेलूर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अस्पताल के सूत्रों के अनुसार, वृद्धा पर उनक बेटे ने धारदार हथियार से हमला कर दिया जिससे वह लहूलुहान होकर पड़ीं हैं। पहले ही उनका काफी खून बह चुका है।
क्या है मामला?
यह घटना गुरुवार देर रात की है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, परिवार में रोजाना अशांति और मतभेद होती रहती थी। परिवार का सबसे बड़ा बेटा तारक पाल लंबे समय से बेरोजगार है। उसके पास आमदनी का एक आना भी नहीं था। वह हर रात शराब पीकर घर लौटता था और उसकी मां इसी बात का विरोध करती थी। इसी बात पर दोनों में हर रात बहस भी होती थी और इसी विवाद ने गुरुवार की रात को भयंकर रूप ले लिया। जिसके बाद तारक ने अपनी मां की धारदार हथियार से हत्या कर दी और खुद को फांसी लगा लिया। जब पड़ोसियों को घटना की जानकारी हुई तो वे तत्काल वृद्ध को बचाने घटनास्‍थल पर पहुंचे और देखा कि उनका शरीर खून से सना हुआ था। वे बेसुध होकर पड़ी थीं। उन्हें वहां से तुरंत बेलूर अस्पताल में भर्ती कराया गया।
इससे पहले भी हुई ऐसी घटना
गौरतलब है कि 13 अक्टूबर को भी एक ऐसी ही पारिवारिक हत्या की घटना ने हावड़ा के मालीपंचघरा में हलचल मचा दी। एक व्यक्ति ने अपनी 8 वर्षीय बेटी की हत्या कर दी थी और खुद आत्महत्या कर ली। पेशे से स्वर्ण व्यवसाय करने वाले व्यक्ति की पहचान अभिजीत रॉय के रूप में की गई। परिवार के सदस्यों के अनुसार, अभिजीत शादी के बाद से विभिन्न गड़बड़ियों के कारण मानसिक अवसाद से पीड़ित था। इसके अलावा उसके ससुराल वाले उसे खूब प्रताड़ित करते थे। पुलिस ने आरोपों के आधार पर अभिजीत के ससुर और सास को गिरफ्तार किया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पहले टी-20 में भारत 11 रन से जीता

कैनबराः भारत ने ऑस्ट्रेलिया को 3 टी-20 की सीरीज के पहले मैच में 11 रन से हरा दिया। टीम इंडिया पिछले 10 टी-20 मैच से आगे पढ़ें »

भारत में न्यूनतम मजदूरी पड़ोसी देशों से भी कम

नई दिल्ली : इंटरनेशनल लेबर आर्गनाइजेशन (आईएलओ) की नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत के मजदूरों पर कोरोना माहामारी और लॉकडाउन की आगे पढ़ें »

ऊपर