भगवान राम को सामने रखकर देश बेचने की साजिश रच रही है भाजपाः फिरहाद

सन्मार्ग संवाददाता
मुर्शिदाबाद : भगवान राम को सामने रखकर देश बेचने की साजिश रच रही है भाजपा। राज्य के नगर विकास मंत्री फिरहाद हकीम ने रविवार को मुर्शिदाबाद के जियागंज-आजिमगंज नगर पालिका क्षेत्र में विकास परियोजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास के अवसर पर यह मंतव्य व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कभी लार्ड क्लाइव बाहर से यहां आकर सिराजुद्दौला को पराजित कर बंगाल पर कब्जा कर लिया था और हम सभी पराधीन हो गये थे। हमने फिर से नयी ताकत से अंग्रेजों के ​खिलाफ आवाजें बुलंद कर ब्रिटिश हुकुमत को खदेड़ कर स्वाधीन हुए थे। अब भाजपा रुपी क्लाइव फिर से बंगाल दखल का दिवास्वप्न देख रहे हैं। बंगाल के नागरिक ऐसा कभी नहीं होने देंगे। नगर विकास मंत्री ने कहा कि भाजपा नेता और क्लाइव रूपी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश को अंबानी और अडानी के हाथों में सौंपने की फिराक में हैं। अंबानी और अडानी को लाभ पहुंचाने की योजनाएं बनायी जा रही है और उसे पूरे देश में जनहित और देशभक्ति के नाम पर जारी किये जा रहे हैं। फिरहाद ने कहा कि राज्य की जनता तीसरी बार ममता बनर्जी को मुख्यमंत्री बनाने की दिशा में काम कर रही है और राज्य की जनता का यह सपना जरूर पूरा होगा। आम नागरिकों से ममता बनर्जी के पक्ष में खड़े होने का आह्वान करते हुए मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बंगाल की मिट्टी को बेहतर तरीके से जानती हैं। यहां के नागरिकों की जरूरतों का उन्होंने सदैव ख्याल रखा है। इसलिए अब आम नागरिकों को भी मुख्यमंत्री की इच्छाओं का सम्मान करना चाहिए। फिरहाद हकीम ने मुर्शिदाबाद नगर पालिका के अधीन एक रेस्तरां के उद्घाटन के अलावा बेसहारा लोगों के लिए भवन निर्माण योजना का भी शिलान्यास किया। वहां से जियागंज आये और वहां कोठीमाठ में आयोजित जनसभा को भी संबोधित किया। इसके तुरंत बाद ही वे आजिमगंज श्मशान में वैद्युतिक शवदाहगृह, जियागंज शहर में सीसीटीवी कैमरे और जलपरियोजना का उद्घाटन भी किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

गूगल ने फिटबिट का 2.1 अरब डॉलर का अधिग्रहण पूरा किया

सान रेमन: इंटरनेट व प्रौद्योगिकी कंपनी गूगल ने फिटनेस उपकरण बनाने वाली कंपनी फिटबिट का 2.1 अरब डॉलर का अधिग्रहण गुरुवार को पूरा कर लिया। आगे पढ़ें »

बंगाल : टीएमसी सांसद शताब्दी रॉय छोड़ सकती हैं पार्टी

कहा- 16 जनवरी को लूंगी फैसला कोलकाता : पश्चिम बंगाल में इस साल चुनाव होने हैं, ऐसे में राज्य में सियासी हलचलें काफी तेज हो चुकी आगे पढ़ें »

ऊपर