मंगेतर इंतजार ही करता रह गया, बोली थी कुछ देर में आ रही हूं

घर में शादी की तारीख तय करने की चल रही थीं तैयारियां
कफन में लिपटी घर पहुंची रीमा की लाश
सोनू ओझा
काेलकाता/हावड़ा : रिश्ता अभी बना ही था, सात जन्मों में बंधने वाले थे। तैयारियां चल रही थीं, शादी की तारीख तय होने वाली थी। घर पर मंगेतर इंतजार कर रहा था, वह बोली थी रास्ते में हूं, कुछ देर में घर पहुंचती हूं। मंगेतर इंतजार करता रहा मगर रीमा की जगह सफेद कफन में घर पहुंची उसकी लाश। दासनगर थाने की पुलिस ने उसके मंगेतर प्रबीर रॉय को फोन कर बताया कि रीमा की मौत हो गयी है। मौत कब, कहां किस रूप में आ जाए ये कोई नहीं जानता। रीमा भी भला कहां जानती थी, घर से निकली थी काम के लिए मगर दिल में अरमान थे शादी के, नये जीवन की भावी योजनाओं को अभी बुन ही रही थी कि मौत ने उसे अपनी आगोश में ले लिया।
टीवी देखकर पता चला रीमा की मौत हो गयी
रीमा की मां और पिता का रो-रो कर बुरा हाल हो रहा है। उनके हिसाब से बेटी घर लौटने वाली थी। सब खुश थे कि बेटी के जीवन की दूसरी पारी शुरू होने जा रही है। रीमा की मां ने बताया कि करीब 12 बजे खुशी-खुशी घर से निकली थी, मैंने पूछा कि कब लौटोगी तो उसने कहा शाम तक आ जाऊंगी। इस बीच अचानक मकान मा​लिक ने उसकी मौत की खबर सुनायी। पहले तो उन्हें यकीन न हुआ फिर उनकी नजर टीवी पर गयी जिसमें उनकी ही बेटी की मौत की खबर दिखायी जा रही थी। यह वह पल था जिसे किस तरह मां के दिल और बाप के कलेजे ने झेला होगा उसे कोई नहीं समझ सकता है।
घर में अकेले कमाने वाली थी रीमा
रीमा हावड़ा के दासनगर की रहने वाली थी। पिता कारखाने में काम करते थे जो लंबे समय से बंद है। इसलिए घर की जिम्मेदारी रीमा ने अपने कंधों पर ले ली थी। रोजाना की तरह शुक्रवार को भी रीमा नौकरी पर निकली थी लेकिन घर पर शादी की तारीख तय होने वाली थी इसलिए रीमा जल्द घर जाने की तैयारी कर रही थी। उसे क्या पता था कि घर से निकलना उसके लिए काल साबित होगा और वह दोबार कभी अपनों के बीच नहीं लौट पाएगी।
एक महीने बाद होनी थी शादी, खत्म हो गयी जीवन लीला
रीमा की शादी एक महीने बाद होने की बात थी। तारीख शुक्रवार को तय होनी थी। उसके पहले ही इस काली घटना ने रीमा की जीवन लीला ही खत्म कर दी। अब न रीमा है न उसके सपने। बची है तो सिर्फ उसकी यादें और मां-बात की नम आंखें जो आज भी दरवाजे पर बेटी की राह देख रही हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बेलियाघाटा में बहनोई पर जानलेवा हमला, साला गिरफ्तार

कोलकाता : पारिवारिक अशांति को लेकर हुए विवाद के दौरान एक युवक ने अपने बहनोई पर जानलेवा हमला कर दिया। घटना बेलियाघाटा थानांतर्गत बेलियाघाटा मेन आगे पढ़ें »

ऊपर