पश्चिम मिदनापुर जिले में बारिश की कमी से चिंतित किसान

मिदनापुर: पश्चिम मिदनापुर जिले में इस वर्ष अब तक सामान्य से कम बारिश हुई है जिसके कारण जिले के किसान काफी चिंतित हैं। बारिश न होने के कारण पश्चिम मिदनापुर जिले के कई नहर सूख गये हैं। किसानों का कहना है कि पिछले वर्ष इस समय बारिश से कहर मचा रखा था और इस वर्ष सामान्य बारिश भी नही हुयी कि खेती का काम शुरु किया जा सके। मौसम विभाग के सूत्रों के अनुसार पश्चिम मिदनापुर जिले में इस वर्ष सामान्य से प्रायः 20 फीसदी कम बारिश हुयी है। जिले में प्रायः साढ़े तीन लाख अस्सी हेक्टरेयर जमीन पर खेती की जाती है और उनमें से अधिकतर इलाकों के किसान वर्ष पर ही निर्भर हैं। इस वर्ष बारिश का आलम यह है कि किसानों को खेती करने लायक की बारिश नही हो रही है। बारिश न होने से नदिया, बड़े तालाब और नहर आदि या तो सूख गये हैं अथवा उनमें पानी न के बराबर रह गया है और उससे खेती का काम नही किया जा सकता। केवल पश्चिम मिदनापुर जिले में ही नही बांकुड़ा जिले में भी बारिश का वही हाल है जिसके कारण सिंचाई की वैकल्पिक व्यवस्था भी नही हो पा रही है। बांकुड़ा में बारिश कम होने से मुकुटमणिपुर जलाधार में पानी उतना नही है कि उसे कंसावती नदी में छोड़ा जा सके। वहीं करोड़ो रुपये खर्च कर प्रायः 3 वर्ष पहले मिदनापुर में कंसावती नदी के उपर अनिकेट बांध बनाया गया था वह भी प्रायः सूखा पड़ा है। जिले के सिंचाई विभाग के अधिकारी नवकुमार घोष ने कहा कि अनिकेट बांध से छोड़े जाने वाले पानी से कई इलाकों में किसान खेती का काम करते हैं, लेकिन इस बार थोड़ी समस्या हो रही है जिसका कारण है पानी की की। जिले में पाट की खेती करने वाले किसानों ने बताया कि उनके लिये सबसे बड़ी समस्या खड़ी हो गयी है क्यों कि बिना पानी के पाट को तैयार नही किया जा सकता है जिसे देखते हुये अनिकेट बांध से सामान्य पानी छोड़ा गया था लेकिन किसानों का कहना है कि उससे काम नही होगा जब बारिश नही होगी तो वह पानी कितने दिन काम आयेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शिक्षा मंत्री से मिला आश्वासन मगर नियुक्तियां कब ?

ब्रात्य बसु ने कहा, ‘कितने शून्य पद, एसएससी को कहा बताने’ सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु के साथ बैठक में नियुक्ति के आगे पढ़ें »

ऊपर