मशहूर बंगाली लेखक बुद्धदेव गुहा का निधन, पीएम, सीएम व राज्यपाल ने जताया शोक

कोलकाता : जाने-माने बंगाली लेखक बुद्धदेव गुहा का कोरोना वायरस संक्रमण से उबरने के बाद हुई समस्याओं के कारण रविवार को निधन हो गया। वह 85 साल के थे। लेखक के परिवार ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण से उबरने के बाद उत्पन्न हुई समस्याओं के कारण उन्हें यहां के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था और रविवार को दिल का दौरा पड़ने के बाद देर रात 11 बजकर 25 मिनट पर उनका निधन हो गया। गुहा के निधन पर पीएम नरेंद्र मोदी, राज्यपाल जगदीप धनखड़, सीएम ममता बनर्जी ने शोक व्यक्त किया। पीएम मोदी ने गुहा के निधन को साहित्य जगत के लिए बहुत बड़ा नुकसान बताया है। पीएम ने ट्वीट में कहा, बुद्धदेव गुहा की रचनाएं बहुआयामी थीं और पर्यावरण के प्रति बहुत संवेदनशीलता दर्शाती थीं। उनकी कृतियों को हर पीढ़ी के लोग पसंद करते थे, खासकर युवा वर्ग। उनका निधन साहित्य जगत के लिए बहुत बड़ा नुकसान है। उनके परिजनों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं।
सीएम ने अपने शोक संदेश में लिखा लिखा, ‘बुद्धदेव गुहा को ‘कोलेर कच्छै’, ‘कोजागर’, ‘इकतु उसनोतर जोनया’, ‘मधुकरी’, ‘जंगलहन’, ‘चोरोबेटी’ और उनकी अन्य किताबों के लिए याद किया जाएगा। वह बंगाल के प्रमुख मशहूर काल्पनिक किरदार ‘रिजुदा’ और ‘रुद्र’ के भी रचयिता थे।’ ममता बनर्जी ने उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति भी संवेदना व्यक्त की। गुहा का जन्म 29 जून 1936 को कोलकाता में हुआ था। उनका बचपन पूर्वी बंगाल (अब बांग्लादेश) के रंगपुर और बारीसाल जिलों में बीता। उनके बचपन के अनुभवों और यात्राओं ने उनके दिमाग पर गहरी छाप छोड़ी, जो बाद में उनके लेखन में दिखाई दी।
उन्हें 1976 में आनंद पुरस्कार, इसके बाद शिरोमन पुरस्कार और शरत पुरस्कार के अलावा उनके अद्भुत काम के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया।
उनके परिवार ने बताया कि गुहा कोरोना वायरस संक्रमण से उबरने के बाद उत्पन्न हुई समस्याओं से परेशान थे और सांस लेने में तकलीफ तथा पेशाब में संक्रमण की शिकायत के बाद उन्हें इस माह के शुरु में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। गुहा अप्रैल में कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे और करीब 33 दिन तक अस्पताल में भर्ती रहे थे। गुहा के परिवार में उनकी पत्नी रितु गुहा और दो बेटियां हैं। लेखक की बड़ी बेटी मालिनी बी गुहा ने सोशल मीडिया पर लिखा कि बुद्धदेव गुहा नहीं रहे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पैसों की तंगी से बचने के लिए करें आटे के ये उपाय, होगी मां लक्ष्मी की कृपा

कोलकाता : पैसे-रुपये और तरक्की भला किसे पसंद नहीं होती, लेकिन कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जिनके हाथ में पैसे टिकते ही नहीं। पैसे आगे पढ़ें »

ऊपर