जमीन से करीब 29 मीटर नीचे होगा एस्प्लानेड मेट्रो स्टेशन

– अगले साल तक हावड़ा मैदान से साल्टलेक तक मेट्रो का लक्ष्य

कोलकाताः एस्प्लानेड यानी हॉर्ट ऑफ दी सिटी। शहर की भीड़-भाड़ में कुछ खुली जगह। बस, ट्राम, मेट्रो, टैक्सी, ऐप कैब रफ्तार से बातें करते हुए। कुछ ऐसा ही है एस्प्लानेड। राज्य की राजधानी यानी कोलकाता आगामी दिनों में बिल्कुल अलग सी नजर आएगी। ऐसा इसलिए क्योंकि आप यहां तक का सफर चंद मिनटों में कर सकेंगे। हावड़ा मैदान से होते हुए मेट्रो जब हुगली नदी के नीचे से होते हुए निकलेगी तो यह अलग रोमांच भरा सफर होगा। ईस्ट वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर के तहत तैयार हो रही मेट्रो परियोजना में पहले ही लोग साल्टलेक सेक्टर-5 से लेकर फूलबागान मेट्रो स्टेशन तक की यात्रा का आनंद ले रहे हैं।

इन दिनों कोलकाता मेट्रो रेलवे कार्पोरेशन (केएमआरसी) की ओर से बाकी बचे कार्यों को भी तेज गति से पूरा किया जा रहा है। ईस्ट वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर के तहत एस्प्लानेड मेट्रो स्टेशन आगामी दिनों में जब बनकर तैयार हो जाएगा तो वह कई खूबियों से लैस होगा। एस्प्लानेड मेट्रो स्टेशन एक वृहत्तर स्टेशन होगा। यह जमीन से करीब 29 मीटर नीचे अवस्थित रहेगा। करीब चार तल्ले के स्टेशन में पहले तल्ले यानी कि मेजेमाइन में टिकट काउंटर से लेकर अन्य सुविधाएं रहेंगी। टिकट काउंटर का ढांचा भी तैयार है। इसके बाद अपर व लोअर कानकोर्स पर भी मेंटेनेंस से लेकर अलग-अलग विभागों के लिए जगह आवंटित रहेगी। बेस में प्लेटफॉर्म है।

तीन कॉरिडोर का होगा लिंक

आने वाले दिनों में जब एस्प्लानेड मेट्रो स्टेशन बनकर तैयार हो जाएगा तो यह तीन कॉरिडोर को एक साथ जोड़ने का काम करेगा। इसके तहत जोका-एस्प्लानेड मेट्रो व नॉर्थ साउथ मेट्रो कॉरिडोर भी इससे जुड़ जाएगा। केएमआरसी सूत्रों का कहना है कि बेस में प्लेटफॉर्म बनकर तैयार है। यहां ट्रेन जाने के लिए ढांचे भी बनकर तैयार हैं। जल्द ही ट्रैक लेयिंग का काम भी शुरू होगा। चारों ही तरफ से मेट्रो में सीढ़ियां मौजूद रहेंगी। स्टेशन पर आठ लिफ्ट व 18 एस्क्लेटर भी मौजूद रहेेंगे।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर देश की बेटी बनाम कन्याश्री

बंगाल में कन्याश्री ने लड़कियों को सशक्त बनाया - ममता सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : नेताजी जन्म जयंती पर पराक्रम दिवस बनाम देशनायक दिवस शनिवार को देखा गया। आगे पढ़ें »

ऑस्ट्रेलिया में डेब्यू करने वाले नटराजन ने बताया पहले मैच का अनुभव

चेन्नई : बतौर नेट गेंदबाज ऑस्ट्रेलिया गये तेज गेंदबाज थांगरासू नटराजन ने इस दौरे पर सभी तीनों प्रारूपों में पदार्पण करके इतिहास बना दिया और आगे पढ़ें »

ऊपर