नये समय में नये तरीके में दिखा छठ पूजा मनाने का उत्साह

 

 

कोलकाता : कोरोना के इस संकट काल में भी आस्था का महापर्व छठ पूजा उसी उत्साह के साथ मनाया गया। जुगाड़ अलग-अलग थे मगर कोरोना पर हर जगह यह लोकपर्व हावी हुआ। पुलिस प्रशासन को भी ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी क्योंकि छठव्रतियों की तरफ से कहीं किसी तरह का उनके काम में हस्तक्षेप नहीं किया गया। पुलिस की ओर से नियम मानने का आदेश था तो छठव्रती भी घाटों पर तमाम नियमों को बाकायदा मानते नजर आये। कुल मिलाकर इस नये समय में नये तरीके से छठ पूजा भी मनी और घाट समेत बाकी जगहों में साफ-सफाई का भी पूरा इंतजाम किया गया।

नये तरीके में दिखा छठ पूजा मनाने का नजारा

इस बार हाईकोर्ट की तरफ से कोरोना के कारण सोशल डिस्टेंसिंग बरकरार रखने के लिए गंगा घाटों पर छठव्रतियों के साथ आने वाले परिजनों की संख्या सीमित की गयी थी। कोर्ट के आदेश का सभी ने मान रखा और कोरोना से बचाव के लिए गंगा घाट में न जाकर घरों में ही पूजा करने का रुख किया। इस कड़ी में कई लोगों ने मकान की छत पर आर्टिफिशियल स्वीमिंग पूल की व्यवस्था की। किसी ने बाथटब लगाया तो किसी ने सीमेंट से अस्थायी घाट तैयार करके पूजा सम्पन्न की। यही कारण रहा कि गंगा के घाटों पर लोगों की भीड़ कम दिखी और कोविड 19 के नियमों को मानते हुए सभी ने आस्था का लोकपर्व उत्साह से सम्पन्न किया।

घरों में पूजा करने के कारण घाटों पर कम रही भीड़

लोगों ने कोरोना से बचने के लिए इस बार घर पर ही छठ पूजा सम्पन्न करने का मन बनाया जिसके कारण गंगा के घाट पर बहुत कम लोग ही गये। जो गये भी थे वे ऐसे लोग थे जिनके इलाके में छठ पूजा के लिए कोई जुगाड़ नहीं था।

सफाई पर पूरा ध्यान

छठ पूजा सम्पन्न होने के बाद ही अस्थाई घाट से लेकर गंगा के घाटों की तुरंत सफाई की गयी। प्रशासन की तरफ से इस बात का पूरा ध्यान रखा गया कि पूजा सम्पन्न होने के बाद रास्तों में अस्थाई घाट के कारण किसी को समस्या न झेलनी पड़ी। कोलकाता में ही अलग-अलग जगहों में 100 से अधिक अस्थाई घाट बने थे जिसे बाद में हटा दिया गया।

लोगों ने कहा आस्था जरूरी है जो पूरी हुई

छठव्रतियों ने इस बार की पूजा को लेकर कहा कि जैसे सभी त्योहार अलग तरीके से मनाये गये छठ पूजा मनाने का तरीका भी इस साल बदला। इसमें बुराई नहीं क्योंकि नियमों को मानना भी जनता की ही जिम्मेवारी होती है। पूजा अच्छे से सम्पन्न हो यह सभी की प्राथमिकता थी जो पूरी हुई।

छठ पूजा के दौरान लोगों में दिखी जागरूकता : फिरहाद
कोलकाता नगर निगम के प्रशासक फिरहाद हकीम कहा कि ने छठ पूजा के दौरान कोविड प्रोटोकॉल को मानते हुए जिस तरह छठ पूजा की गयी उसकी जितनी भी सराहना की जाये वह कम है और यही कारण है कि महानगर में लगातार कोरोना के मामलों में कमी आ रही है। लगातार त्योहारों के होने से ऐसा लग रहा था कि दुर्गापूजा के बाद कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी होगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कोरोना के मामले तो हैं लेकिन कम। ऐसा सिर्फ इसलिये संभव हो सका है क्योंकि लोग जागरूक हो रहे हैं। इसका उदाहरण है छठ पूजा। इस दौरान लोगों ने शांति से कोविड प्रोटोकॉल को मानते हुए छठ पूजा की जो कि सभी अन्य शहरों के लिये उदाहरण है। केरल के साथ ही कई शहरों में लॉकडाउन किया गया। फिरहाद का दावा है कि महानगर की हालत पहले से बेहतर है। कोरोना से बचाव के लिये कोलकाता नगर निगम माइक्रो प्लानिंग, स्प्रे के साथ ही लोगों को जागरूक कर रहा है ।

शेयर करें

मुख्य समाचार

विराट की अनुपस्थिति का नहीं होगा वित्तीय असर : हॉकली

सिडनी : क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष निक हॉकली ने कहा है कि पहले टेस्ट मैच के बाद भारतीय टीम के कप्तान विराट आगे पढ़ें »

बायो-बबल में रहना बड़ा त्याग : बोल्ट

वेलिंगटन : न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट का मानना है कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट कैलेंडर के शुरू होने के बाद बायो-सुरक्षित माहौल में रहना क्रिकेटरों आगे पढ़ें »

ऊपर