गड्ढों में खो गया रफ्तार से पंजा लड़ाने वाला ईएम बाईपास

ग्रामीण सड़कों सी बदहाल हुई मखमली सड़क
राहगीरों ने कहा, बारिश में पता ही नहीं चलता सड़क कहां है, गड्ढे कहां हैं ?
सोनू ओझा
कोलकाता : रफ्तार के लिए जानी जाने वाली ग्रेटर कोलकाता की सड़क ईएम बाईपास इन दिनों खुद बाईपास सर्जरी के लिए राह ताक रही है। एक दौर था जब कोलकाता की मुख्य सड़कों को जोड़ने वाली इस बाईपास को मखमली सड़क कहा जाता था, क्योंकि यहां गाड़ियों की रफ्तार मिनटों में मंजिल तक पहुंचाती थी। आज स्थिति बदल गयी है, रफ्तार से पंजा लड़ाने वाला ईएम बाईपास गड्ढों में इस कदर खो गया है कि राहगीरों को अंदाजा तक नहीं होता कि उनकी गाड़ी सड़क पर चल रही है या गड्ढों में समाने के लिए आगे बढ़ रही है। यह स्थिति आज की नहीं बल्कि काफी पहले से है, खासकर बरसात के दिनों में ऐसी बदहाली लोगों को अधिक झेलनी पड़ती है।
गांवों की सुदूर सड़क से भी बदहाल सूरत
ईएम बाईपास ग्रेटर कोलकाता की महत्वपूर्ण सड़क कही जाती है। करीब 32 किलोमीटर तक लंबी यह सड़क कोलकाता को उत्तर 24 परगना और दक्षिण 24 परगना से जोड़ती है। मुख्य कोलकाता की तरफ बेलियाघाटा से साइंस सिटी के बीच इस सड़क की हालत देखें तो कुछ जगहों पर तस्वीर ऐसी दिखती है मानों हम ग्रामीण सड़कों पर आवाजाही कर रहे हों। आम दिनों में तो ​स्थिति फिर भी ठीक रहती है, बारिश के दौरान तो लोगों का दम निकल जाता है यहां से गाड़ी लेकर निकलने में।
लोगों ने कहा मजबूरी है यहां से जाना
साव ने बताया कि बाइक से वह रोजाना बाईपास होकर गुजरता है, यहां साइंस सिटी के सामने जो गड्ढे हैं वह कब पटेंगे पता नहीं। उसने कहा कि हमारी तो मजबूरी है, जो करना है वह प्रशासन के हाथ में है। हम इंतजार कर रहे हैं कब सड़क की सूरत सुधरेगी। इसी तरह चौहान ने कहा कि वह पिछले 5 सालों से इसी सड़क से होकर गुजरता है। बारिश में यह प्रार्थना करते हुए निकलता हूं कि मेरा वाहन सड़क की जगह किसी गड्ढे की भेंट न चढ़ जाए क्योंकि जल-जमाव के कारण पता ही नहीं चल पाता, कहां सड़क है और गड्ढे कहां हैं।
प्रशासन ने कहा, भरे जा रहे हैं गड्ढे
ईएम बाईपास की मरम्मत का जिम्मा केएमडीए के हाथों में है। विभागीय अधिकारी का कहना है कि हर बार बारिश से पहले सड़क की मरम्मत भी करायी जाती है। कुछ जगहों पर सड़क की हालत खराब है जिसकी जानकारी जैसे-जैसे मिलती है विभाग की तरफ से उसकी मरम्मत कर दी जाती है। गड्ढों को भी पाट दिया जाता है। बहरहाल प्रशासन जो भी कहे सड़क की तस्वीर बदहाली का दर्द बयां कर रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सियालदह तक मेट्रो की सौगात नए साल में

सियालदह तक मेट्रो शुरू करने की कवायद में जुटा प्रबंधन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः ईस्ट वेस्ट मेट्रो कॉरिडोर के तहत कोलकाता मेट्रो रेलवे कॉरपोरेशन (केएमआरसीएल) ने सियालदह मेट्रो आगे पढ़ें »

ऊपर