बारिश का असर कई अस्पताल परिसरों में भी

स्कूल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन, केपीसी मेडिकल, एसएसकेएम, मारवाड़ी रिलीफ के पास दिखा जलजमाव
परेशान हुए ऑउटडोर के मरीज
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः महानगर में सोमवार को हुई भारी बारिश का असर कई अस्पतालों के परिसर के पास भी नजर आया। आलम यह था कि कई अस्पतालों के परिसर तो कई के बाहर काफी जलजमाव हो गया। इस कारण अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों के परिजनों को व्यापक परेशानी का सामना करना पड़ा। इसके अलावा कई जगहों पर लिफ्ट भी कुछ समय के लिए बंद करने की स्थिति नजर आई। कई जगहों पर अस्पताल में भर्ती मरीजों के लिए खाना पहुंचाने भी दिक्कत हुई।
एसएसकेएम हॉस्पिटल की तस्वीर अमित मालवीय ने भी की साझा
एसएसकेएम हॉस्पिटल के कार्डियोलॉजी विभाग के पास कुछ समय के लिए जलजमाव की स्थिति रही। इसकी तस्वीर भाजपा नेता अमित मालवीय ने भी साझा की। आलम यह था कि उन्होंने इसे लेकर कटाक्ष भी किया। हालांकि मौके पर पहुंचे कोलकाता नगर निगम के कर्मियों व अस्पताल कर्मियों ने कुछ ही देर में स्थिति को स्वाभाविक कर ‌दिया। हालां‌कि ऑउटडोर में आने वाले मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।
स्कूल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन
स्कूल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन अस्पताल परिसर में भी कुछ समय के लिए जलजमाव रहा। इस कारण आरोप है कि कुछ दवाएं भी पानी में नजर आईं। हालांकि इस बारे में प्रबंधन से संपर्क करने पर बात नहीं हो सकी।
केपीसी मेडिकल
केपीसी मेडिकल कॉलेज व अस्पताल परिसर में भारी बारिश के कारण जलजमाव से लोगों को व्यापक परेशानी का सामना करना पड़ा। काफी संख्या में मरीज व उनके परिजन पानी के बीच ही अस्पताल में पहुंचे दिखे।
मारवाड़ी रिलीफ सोसाइटी
मारवाड़ी रिलीफ सोसाइटी के आस-पास भी भारी बारिश से लोगों को दिक्कतें हुईं। इस बारे में प्रदीप शर्मा ने बताया कि अधिक बारिश के कारण आस-पास जलजमाव हो जाता है। हालांकि परिस्थिति को नियंत्रित करने के लिए निगम व अस्पताल के कर्मी तत्पर हो जाते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

शोभन के बैसाखी को सिंदूर लगाने पर रत्ना ने दिया बड़ा बयान

कोलकाता : शोभन चटर्जी ने बैसाखी बनर्जी के माथे में सिंदूर लगाया, उधर शोभन की पत्नी रत्ना चटर्जी ने कहा कि हिंदू विवाह कानून के आगे पढ़ें »

ऊपर