मंदिर में ही रहें दुर्गा, राजनीति में लाना ठीक नहीं

dilip

अपने बयान पर दिलीप घोष ने दी सफाई
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष द्वारा मां दुर्गा को लेकर दिये गये विवादित बयान राज्य की राजनीति गरमा गयी है। उनके बयान को लेकर तृणमूल ने उन पर कड़ा हमला बोला। दिलीप घोष ने कहा था, ‘राम राजा थे जिनके 14वें पूर्वज की जानकारी हम सबको है, लेकिन मां दुर्गा का कोई बता सकता है क्या ?’ इस बयान को लेकर तृणमूल ने सवाल उठाने शुरू कर दिये कि जो भाजपा खुद को हिन्दू धर्म का रक्षक कहती है, उस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मां दुर्गा का अपमान कैसे कर सकते हैं ? घटना के 24 घण्टे के बाद शनिवार को इस बयान पर दिलीप घोष ने सफाई दी। पश्चिम मिदनापुर के चंद्रकोना रोड में पार्टी की सभा को संबोधित करते हुए दिलीप घोष ने कहा, ‘राम के नाम पर राजनीति हो रही है।’ तृणमूल पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, ‘दुर्गा को राम के सामने लाकर तृणमूल लड़ाई करवा रही है। राम दुर्गा के उपासक थे। दुर्गा की पूजा कर रावण का वध उन्होंने किया था। ये बात तृणमूल नहीं जानती। इस कारण जो राम के सामने दुर्गा को ले आते हैं, उन्हें समझना होगा कि राजनीति दुर्गा – काली की नहीं है। दुर्गा-काली मंदिर में रहें, वहां उनकी पूजा करें। राजनीति करना हो तो आयें, आपके आदर्श कौन हैं बतायें ? सबसे दुर्नीतिग्रस्त नेता ही आपके आदर्श हैं।’ वहीं दिलीप घोष पर निशाना साधते हुए तृणमूल नेता व मंत्री तापस राय ने कहा, ‘भाजपा राम का इस्तेमाल कर रही है, राम के ईर्द-गिर्द ही भाजपा की राजनीति है। उन्हीं रामचंद्र ने देवी दुर्गा की आराधना की थी। हम देवी दुर्गा की पूजा नारी शक्ति के तौर पर करते हैं, दुर्गोत्सव हमारा श्रेष्ठ उत्सव है। दिलीप ने जो साहस दिखाया है, इसका जवाब जनता उन्हें देगी।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

पानी की टंकी में डाल दें इन में से 1 चीज, पैसों की किल्लत होगी दूर

कोलकाताः हर किसी को अच्छा जीवन बीताने के लिए आर्थिक तौर पर सक्षम होना जरूरी है। मगर बहुत बार मेहनत करने के बावजूद भी व्यक्ति आगे पढ़ें »

टीएमसी नेता कुणाल घोष ने ईडी को भेजा नोटिस, आज होगी पेशी

कोलकाताः पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर टीएमसी नेताओं पर केंद्रीय एजेंसियों ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। अब टीएमसी नेता कुणाल घोष को आगे पढ़ें »

ऊपर