कल महालया के साथ दुर्गा पूजा शुरू

कोलकाता : बुधवार को महालया अमावस्या (सर्व पितृ अमावस्या) के साथ कोलकाता का दुर्गापूजा शुरू हो जाएगी। मान्यता है कि महालया के साथ जहां श्राद्ध पक्ष खत्म होते हैं। इसी दिन मां दुर्गा कैलाश पर्वत से धरती पर आगमन कर अगले 10 दिनों के लिए वास करती हैं। 10 दिनों के दौरान पूरे बंगाल में दुर्गा पूजा धूमधाम से मनायी जाती है, लेकिन कोरोना महामारी के मद्देनजर हाईकोर्ट के निर्देश के अनुसार इस साल भी दुर्गा पूजा होगी। कोलकाता पुलिस इस बाबत तत्पर है और विभिन्न पूजा पंडालों का परिभ्रमण कर नियमों की जांच कर रही है।

बता दें कि महालया के दिन ही मूर्तिकार मां दुर्गा की आंखों को तैयार करते हैं। हिंदू धार्मिक शास्त्रों में दुर्गापूजा अश्विन माह के शुक्ल पक्ष में होती है। इस साल शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 07 अक्टूबर से होने जा रही है। महालया अमावस्या के अगले दिन से शारदीय नवरात्रि शुरू होती है।

कोरोना प्रोटोकॉल के बीच होगी दुर्गा पूजा

कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर कलकत्ता उच्च न्यायालय ने पिछले साल की तरह त्यौहार पर प्रतिबंध को बरकरार रखा है। कोर्ट ने दुर्गा पूजा पर पिछले साल के दिशा-निर्देशों को बरकरार रखा और कहा कि इस साल भी सभी कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार त्यौहार मनाया जाना चाहिए। इस बीच हाईकोर्ट के निर्देशों को लागू करने के लिए कटिबद्ध कोलकाता पुलिस ने अपनी गतिविधियां शुरू कर दी हैं। लालबाजार पुलिस कड़ी नजर रखे हुए है। ताकि कोई भी क्लब या पूजा समिति कोर्ट के आदेश का उल्लंघन न कर सके।

कोलकाता पुलिस विभिन्न पूजा पंडालों का कर रही है दौरा

पश्चिम बंगाल की ऐतिहासिक दुर्गा पूजा के दौरान कोरोना नियमों का पालन सुनिश्चित करवाने के लिए कोलकाता पुलिस और अग्निशमन विभाग ने निरीक्षण शुरू की है। सोमवार से दोनों ही विभागों की टीम महानगर के अलग-अलग हिस्सों में जा रही है और बनाए गए पंडाल में प्रवेश, निकासी और अग्निशमन व्यवस्था को परख रही है। आज मंगलवार को भी विभिन्न पूजा पंडालों का परिदर्शन किया जाएगा। कोलकाता पुलिस के संयुक्त आयुक्त (मुख्यालय) शुभंकर सिन्हा सरकार के नेतृत्व में पुलिस की टीम विभिन्न पंडालों का दौरा कर रही है। इसके अलावा कोलकाता में बिजली आपूर्ति करने वाली मुख्य कंपनी कोलकाता इलेक्ट्रिक सप्लाई कारपोरेशन (सीईएसई) की टीम भी विभिन्न क्षेत्रों में जाकर पंडाल में बिजली आपूर्ति और सुरक्षा की व्यवस्था परख रही है। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जहां-जहां वरीय अधिकारियों की टीम पहुंचेगी वहां स्थानीय थाने की टीम को भी मौजूद रहने को कहा गया है। इस संबंध में शुभंकर सिन्हा सरकार ने कहा, कलकत्ता उच्च न्यायालय ने एक बार फिर कोरोना नियमों के अनुसार पूजा करने का निर्देश दिया है। कोर्ट के आदेश का कहीं भी उल्लंघन न हो इसके लिए हम कड़ी निगरानी रख रहे हैं।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

दामाद ने ससुराल में कर दी दो लोगों की हत्या

शिल्पांचल के बाराबनी विधानसभा क्षेत्र के नोनी गांव में एक दामाद को इतना गुस्सा आया कि उसने दो लोगों की गला दबा कर हत्या कर आगे पढ़ें »

ऊपर