“बिगड़े लड़के” नहीं सुधरे तो होंगी शीतलकुची जैसी और घटनाएं : दिलीप घोष

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : शीतलकुची की घटना को लेकर अब प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि ज्यादा बिगड़ने पर राज्य के और स्थानों पर भी शीतलकुची जैसी घटनाएं होंगी। शीतलकुची में केंद्रीय बलों की गोली से 4 लोगों की हुई मौत को लेकर राज्य की राजनीति में उबाल है। इस घटना की तुलना मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सामूहिक नरसंहार से की। वहीं रविवार को ही दिलीप घोष ने कहा, “भय दिखाकर राजनीति करने के दिन चले गये हैं। डर की उपेक्षा कर लोग वोट दे रहे हैं। 17 तारीख की सुबह भी कतार में खड़े रहकर वोट दें, बूथ में केंद्रीय वाहिनी रहेगी। कोई लाल आंखे नहीं दिखा सकता है, हम हैं। अगर किसी ने ज्यादा अतिशयोक्ति की तो शीतलकुची में देखा ना क्या हुआ। जगह-जगह शीतलकुची होगा।” शनिवार से ही शीतलकुची में मृत लोगों को तृणमूल अपना कार्यकर्ता बता रही है तो दिलीप घोष के लिए ये लोग “बिगड़े लड़के” हैं। इधर, तृणमूल ने दिलीप घोष के इस बयान को सामूहिक हत्या को उकसावा देने वाला बताया और चुनाव आयोग से हस्तक्षेप की मांग की।
रविवार को बरानगर की भाजपा उम्मीदवार पर्णो मित्रा के समर्थन में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए दिलीप घोष ने कहा, “तृणमूल के शासन में मां-बहने घर से नहीं निकल सकती हैं। लड़कियां ट्यूशन भी जाती हैं तो परिवार चिंता में रहता है। बाजार जाने पर मां-बहनों का आंचल तो कभी हाथ पकड़कर खींचा जाता है। शिकायत करने पर दीदी उन्हें बिगड़े लड़के कहती हैं। इतने बिगड़े लड़के आये कहां से ? ऐसे ही ​बिगड़े लड़कों ने शीतलकुची में गोली खायी है। ये बिगड़े लड़के अब बंगाल में नहीं रह सकते हैं। अभी तो बस शुरुआत हुई है। जिन्होंने सोचा कि केंद्रीय वाहिनी अपने साथ बंदूक केवल दिखाने के लिए लेकर आयी है, अब वे समझ गये होंगे कि उस गोली में कितनी गर्मी है। पूरे बंगाल में यही होगा।” दिलीप घोष ने ममता बनर्जी पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा, “पूरा जीवन मुख्यमंत्री ने लाशों पर राजनीति की। कूचबिहार में वह शव लेने जाना चाहती थीं। सोचा था कि शव को रास्ते में रखकर बैठेंगी। कहेंगी कि देखिये, मेरे लोगों को मार दिया। वोट दें। लेकिन, आयोग ने तय किया है कि उस इलाके में किसी भी नेता या नेत्री को घुसने नहीं दिया जाएगा ताकि आग में कोई घी ना डाल पाये। इस कारण उन्हें खूब कष्ट हो रहा है, सिलीगुड़ी में संवाददाता सम्मेलन कर रही हैं। वह समझ गयी हैं कि लोग उन्हें वोट नहीं देंगे।” केदीय बलों के खिलाफ ममता बनर्जी के बयान को लेकर दिलीप घोष ने मामला शुरू करने की भी मांग की।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सुसाइड प्वाइंट बनता जा रहा है विद्यासागर सेतु

हावड़ा ब्रिज पर रेलिंग लगने के बाद यहां पर लोगों की संख्या बढ़ी पिछले दो महीने में 5 लोगों को पुलिस ने आत्महत्या करने से बचाया सन्मार्ग आगे पढ़ें »

कोरोना संक्रमित पिता के इलाज खर्च जुगाड़ नहीं कर पाया, बेटा कुएं में कूद कर मरा

सन्मार्ग संवाददाता दुर्गापुर : प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कोरोना संक्रमित पिता के इलाज का खर्च नहीं उठा पाने से तनावग्रस्त बेटे ने कुआं में कूदकर आत्महत्या आगे पढ़ें »

ऊपर