दिलीप घोष ने दिया विवादित बयान, राजनीतिक वितर्क शुरू

खड़गपुर: भाजपा के राज्य अध्यक्ष व मिदनापुर के सांसद दिलीप घोष द्वारा गुरुवार की सुबह किये गये बयानबाजी से एक बार फिर से राजनीतिक वितर्क शुरु हो गया है। उन्होंने कहा कि यदि आप मोदी पर भरोसा करते हैं, तो सुरक्षित रहेंगे, यदि आप दीदी पर भरोसा करते हैं, तो आपको तालिबानियों की गोली मिलेगी। इसके बाद ही वितर्क शुरु हो गया है। गुरुवार की सुबह सांसद दिलीप घोष खड़गपुर में सुबह के समय मॉर्निंग वाक करने निकले थे। इस दौरान वह नीमपुरा में अपने एक दलीय कर्मी के घर भी गये। पत्रकारों से बात करते हुए दिलीप घोष ने कहा कि “मोदीजी सभी भारतीयों को सुरक्षित वापस ला रहे हैं। इससे पहले वह लीबिया से भारतीयों को वापस लाए थे। लॉकडाउन के दौरान 60 लाख भारतीयों को सकुशल वापस लाया गया। मोदी, हैं तो ही यह संभव है और, अगर आप अपनी दीदी पर भरोसा करते हैं, तो आपके माथे पर तालिबान की गोलियां लिखी हैं।” दिलीप घोष की विवादित टिप्पणी से पूरे जिले में विवाद की लहर दौड़ गई। दिलीप घोष ने लक्ष्मी भंडार और मदर डेयरी पर भी कटाक्ष किया। उन्होंने कहा, मोदी अगर पैसा भेजते हैं तो खाते में भेजते हैं और दीदी के 500-1000 रुपये के लिए लोगों को भीख की थैलियों के लिए लाइन लगानी पड़ती है। महिलाओं को कुचल कर घायल किया जा रहा है। वह खाते में पैसे भेज सकती थीं। मदर डेयरी को लेकर सांसद दिलीप घोष ने आरोप लगाते हुये कहा कि “पहले, दीदी के भाइयों द्वारा मेट्रो डेयरी को लूटा और खाया गया और इस बार निशाने पर है, मदर डेयरी। सारे सिंडिकेट चल रहे हैं।” दिलीप घोष के विवादित बयान पर मिदनापुर के तृणमूल अध्यक्ष सुजय हाजरा ने कहा कि दिलीप घोष की तालिबानी टिप्पणी की पहचान खड़गपुर के लोगों को पहले से है। खड़गपुर में अपनी पार्टी को विधायक बनाने के लिए लोगों ने मोदी पर भरोसा किया है और, पानी की समस्या से ग्रस्त लोगों ने दिलीप घोष की गंदी टिप्पणी सुनी है। उन्होंने निवर्तमान पार्षद को लैम्प पोस्ट से बांधकर उनके घर के सामने गंदगी फैलाने को कहा। यही है उनकी राजनीतिक पहचान और जब मोदी जी ने नोटबंदी की और लाखों गरीबों को लाईन में खड़ा कर उन्हें मौत के घाट उतार दिया, उस समय मोदी जी के भाई क्या कर रहे थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अगले 3 दिनों में कई और नेता तृणमूल में हो सकते हैं शामिल

भाजपा के शिविर में और होंगे ‘धमाके’ सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : लोकसभा सांसद बाबुल सुप्रियो ने भाजपा छोड़ तृणमूल कांग्रेस का दामन थाम लिया है। आने वाले आगे पढ़ें »

ऊपर