रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने युद्धपोत ‘दूनागिरी’ का जलावतरण किया

संकट के समय श्रीलंका के साथ है भारत : राजनाथ नई तकनीक से लैस स्वदेशी वॉरशिप ‘दूनागिरी’
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को ‘पीएसयू गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एंड इंजीनियर्स’ द्वारा निर्मित पी17ए युद्धपोत ‘दूनागिरी’ का यहां हुगली नदी में जलावतरण किया। पी17ए पोत दिशानिर्देशित-मिसाइल युद्धपोत हैं। युद्धपोत के जलावतरण से पहले अपने संबोधन में सिंह ने कहा कि भारतीय शिपयार्ड द्वारा पोत का इस तरह से जलावतरण किया जाना देश की आत्मनिर्भरता बढ़ने का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका में संकट के समय में भारत उसके साथ खड़े रहने के लिए यथासंभव प्रयास कर रहा है। राजनाथ सिंह ने कहा, ‘यह युद्धपोत हमारे लिए बहुत बड़ी संपत्ति साबित होगा। भगवान लक्ष्मण के लिए ‘संजीवनी बूटी’ लाने के लिए भगवान हनुमान पूरे द्रोणागिरी पर्वत को उठा लाए थे। द्रोणागिरी या दूनागिरी भी किसी भी स्थिति में अपने काम को अंजाम देने में सक्षम है।’दूनागिरी युद्धपोत की खासियत
भारतीय नौसेना के मुताबिक, आईएनएस दूनागिरी प्रोजेक्ट-17ए का चौथा युद्धपोत है, जिसे लॉन्च किया गया। इस प्रोजेक्ट के तहत नौसेना के लिए कुल सात (07) शिवालिक क्लास फ्रीगेट बनाए जाने हैं। बाकी शिवालिक क्लास युद्धपोत की तरह ही दूनागिरी भी रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर भारत की एक अहम पहचान है। इस युद्धपोत में 75 प्रतिशत हथियार, उपकरण और सिस्टम स्वदेशी हैं। इन सभी युद्धपोतों का डिजाइन नौसेना के डायरेक्टरेट ऑफ नेवल डिजाइन ने तैयार किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

आज शिक्षा मंत्री के साथ एसएससी आंदोलनकारियों की बैठक

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : 2016 के एसएससी आंदोलनकारियों से तृणमूल कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव व सांसद अभिषेक बनर्जी ने पिछले दिनों कैमक स्ट्रीट कार्यालय में मुलाकात आगे पढ़ें »

ऊपर