बहू और नातिन ने करवायी थी पंजाबी वृद्धा की हत्या

सन्मार्ग संवाददाता,कोलकाता : संपत्ति के लालच में बड़ी बहू और नातिन ने निर्ममता से वृद्धा की हत्या कर दी। पुलिस ने इस बात का खुलासा किया है। गरियाहाट थानांतर्गत गरचा फर्स्ट लेन में उर्मिला देवी झुंड की हत्या के आरोप में पुलिस ने उसकी बड़ी बहू, नातिन और बड़ी बहू के प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है। अभियुक्तों के नाम डिंपल झुंड (35), कनिका झुंड उर्फ गुड़िया (18) और सौरभ पुरी (22) बताये गए हैं। पुलिस के अनुसार कनिका हाजरा रोड स्थित एक नामी स्कूल की छात्रा है। संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) मुरलीधर शर्मा ने बताया कि घटना के बाद जब डिंपल और गुड़िया से पूछताछ की गयी तो उनके बयान में असंगतियां पायी गयीं। काफी पूछताछ के बाद दोनों ने हत्या करने की बात कबूल की।

पंजाब में हत्यारा हुआ गिरफ्तार

पुलिस के अनुसार अभियुक्तों ने बताया कि डिंपल के प्रेमी सौरभ पुरी ने वृद्धा की हत्या की है। उसने ही वृद्धा के शरीर पर अनगिनत प्रहार कर सिर को धड़ से अलग कर दिया था। अभियुक्तों ने बताया कि सौरभ शुक्रवार की सुबह फ्लाईट से वापस पंजाब लौट गया है। इसके बाद ही कोलकाता पुलिस की टीम ने शुक्रवार की शाम पंजाब के नाभा से अभियुक्त सौरभ पुरी को गिरफ्तार कर लिया।

डिंपल के अवैध संबंध के बारे में पता था वृद्धा को

पुलिस के अनुसार सौरभ ने कनिका की मौजूदगी में वृद्धा की हत्या की थी। पुलिस की प्राथमिक जांच के अनुसार वृद्धा को डिंपल के अवैध संबंध के बारे में जानकारी मिल गयी थी। ऐसे में उसे रास्ते से हटाने के लिए डिंपल ने सौरभ के साथ मिलकर प्लान बनाया था। पुलिस के अनुसार सौरभ ने पहले श्वांसरोध कर वृद्धा की हत्या करने की कोशिश की थी लेकिन जब वह असफल हुआ तो उसने धारदार हथियार से उसके शरीर पर वार किया। वहीं दूसरी ओर वृद्धा के छोटे बेटे बलराज ने पुलिस को बताया कि उसके घर से सोने के आभूषण और 20 हजार रुपये गायब हैं।

एक महीने पहले रची गयी थी हत्या की साजिश

पुलिस ने बताया कि डिंपल ने अपनी बेटी और प्रेमी के साथ मिलकर एक महीने पहले अपनी सास की हत्या की साजिश रची थी। उसने बताया कि एक महीने पहले उसे पता चला था कि बलराज अपने परिवार के साथ सिलीगुड़ी जाने वाला है। ऐसे में उर्मिला घर में अकेली रहेगी। इस दौरान ही हत्या करने का प्लान उन्होंने बनाया था। पूछताछ के दौरान डिंपल ने पुलिस को बताया कि उसका पति मंदीप और बलराज साथ में पारिवारिक व्यवसाय को चला रहे थे। वर्ष 2014 में मंदीप की बीमारी के कारण मौत हो गयी। मंदीप की मौत के बाद व्यवसाय पूर्ण रूप से बलराज चलाता था। वहीं डिंपल और उसकी बेटियों को रहने के लिए बलराज और उर्मिला देवी ने रिची रोड के पास एक फ्लैट दे दिया था। उक्त फ्लैट मंदीप और बलराज के नाम पर रजिस्टर्ड था। मंदीप की मौत के बाद उसका मालिक बलराज हो गया था।

डिंपल अपने नाम करवाना चाहती थी फ्लैट

ऐसे में डिंपल रोजाना उक्त फ्लैट को अपने नाम पर कर देने के लिए उर्मिला और बलराज को कहती थी लेकिन उन्होंने उसकी बातों को अनसुना कर दिया था। इसके अलावा बलराज और उर्मिला हर महीने के खर्च के तौर पर डिंपल को 40 हजार रुपये दिया करते थे। डिंपल के अनुसार उसकी बेटियों के पढ़ाई में ज्यादा रुपये खर्च हो रहे थे इसलिए घर चलाने में उसे दिक्कत हो रही थी। अभियुक्त ने बताया कि उसकी सास घर की सारी बागडोर अपने हाथ में रखती थी। पूछताछ में बताया कि बैंक में उसका एक लॉकर भी है जिसमें उसके रुपये और गहने है। हालांकि वृद्धा उसे बैंक के लॉकर नहीं खोलने देती थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पृथ्वी सॉव का शानदार अर्धशतक, दिल्‍ली ने चेन्‍नई को 44 रन से हराया

चेन्नई सुपरकिंग्स पर दिल्ली कैपिटल्स की 7वीं जीत, सीजन में चेन्नई की लगातार दूसरी हार दुबई : तीन बार की चैंपियन चेन्‍नई सुपर किंग्स को दिल्ली आगे पढ़ें »

हैदराबाद के खिलाफ जीत का खाता खोलने उतरेगी केकेआर

अबुधाबी : इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के शुरूआती मुकाबले में कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के कप्तान दिनेश कार्तिक की योजनाओं की आलोचना हुई जो शनिवार आगे पढ़ें »

ऊपर