दीघा टाउन में सैलाब देख आतंकित हुए लोग, कहा, पहले कभी ऐसा नहीं देखा

खड़गपुर/दीघा : पूर्व मिदनापुर की विश्व विख्यात पर्यटन नगरी दीघा में तूफान से नुकसान होना कोई नयी बात नहीं है। गत वर्ष भी अम्फान तूफान के समय दीघा व आस-पास के इलाके में काफी नुकसान हुआ था, लेकिन पहली बार दीघा टाउन में इतने बड़े पैमाने पर समुद्र का ‘प्रलय’ देख लोग हतप्रभ रह गए हैं। यहां के लोग आतंकित भी हैं।
‘यास’ नामक इस चक्रवाती तूफान के दीघा में प्रवेश करने से पहले अर्थात् सोमवार से ही दीघा के समुद्र में काफी जोरदार लहरें उठने लगीं थीं। मंगलवार को समुद्र और ज्यादा भयावह हो उठा था, लेकिन तूफान के टकराने के दिन बुधवार को तो ऐसा लग रहा था मानों समुद्र मंथन चल रहा है। इस दिन लहरें इतनी ऊंची थीं कि समुद्र का पानी बांध को पार कर सड़कों पर बहने लगा। इस कारण दीघा टाउन व आस – पास के इलाके में काफी पानी भर गया। समुद्र का पानी गांवों में घुस गया और सैकड़ों दुकानों को काफी नुकसान हुआ। चारों ओर केवल पानी ही पानी दिखाई दे रहा था। यास चक्रवाती तूफान ने सजे – संवरे दीघा को तहस- नहस कर दिया। समुद्र के किनारे के गार्डन पानी में पूरी तरह डूब गये। एक तरह से यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि बंगाल के लोगों का गर्व रहे दीघा को यास ने पूरी तरह से बिखेर कर रख दिया है। तेज हवाओं व पानी की जोरदार लहरों के कारण विभिन्न गांवों में सैकड़ों की संख्या में कच्चे मकान टूट गए हैं जिससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। हजारों लोगों को अपना बसेरा छोड़कर दूसरे स्थानों पर शरण लेना पड़ा। दीघा के लोगों का कहना है कि इसके पहले भी कई तूफान के समय हुए नुकसान का उन लोगों ने सामना किया है, लेकिन यास तूफान के कारण समुद्र का इतना भयावह रूप उन लोगों ने पहली बार देखा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

साल्टलेक सेक्टर-5 स्टेशन का भी निजीकरण

अब बंधन बैंक का लगा स्टेशन पर नाम कोलकाताः मेट्रो रेलवे की ओर से कई स्टेशनों को निजीकरण किए जाने की पहल पहले ही गई है। आगे पढ़ें »

महिला को डायन करार देकर पीटने का आरोप

मिदनापुर: पश्चिम मिदनापुर जिले के जंगलमहल इलाके में एक बार फिर से एक महिला को डायन करार देते हुए उसे बुरी तरह से पीटे जाने आगे पढ़ें »

ऊपर