यूपी व बिहार से आने वाले शवों का सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

मालदह : उत्तर प्रदेश और बिहार से गंगा में बहते हुए आ रहे शव आगे नहीं चले जाए यह सुनिश्चित किया जाए। नवान्न से मालदह जिला प्रशासन को इस बाबत कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। अगर कोई शव गंगा में बहता हुआ नजर आए तो उसे बाहर निकाल कर पहले संक्रमण मुक्त किया जाए। इसके बाद उसे सम्मान के साथ जमीन में पांच फुट गहरा गड्ढा खोद कर उसे सम्मान के साथ दफना दिया जाए। नवान्न के इस निर्देश के बाद जिला प्रशासन और पुलिस सक्रिय हो गए हैं। प्रशासन और पुलिस ने फैसला लिया है कि विशेष कर के मानिकचक ब्लॉक के गदाइचर क्षेत्र में गंगा पर तीखी निगाहें रखनी पड़ेंगी। इसके अनुसार मानिकचक और भूतनी क्षेत्र में पुलिस वालों ने निगाहें रखनी शुरू कर दी है। अभी भी गंगा का जलस्तर ज्यादा नहीं बढ़ा है इसके बावजूद मानिकचक घाट के पास गंगा का पाट करीब एक किलोमीटर चौड़ा है। इसके मुकाबले गदाइचर में गंगा का पाट थोड़ा कम चौड़ा है। वृहस्पतिवार की सुबह से ही नदी पर तीखी नजर रखने का काम शुरू हो गया है। हालांकि अभी तक इसके लिए स्पीड बोट का इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है। अभी नौका से पुलिस वाले निगरानी कर रहे हैं। फेरी घाट के माझियों को भी इस मामले में सतर्क किया गया है। अभी तक नदी में बहती हुई कोई लाश नहीं आई है। जिले के डिप्टी पुलिस सुपर प्रशांत देवनाथ ने कहा कि जिला प्रशासन से यह सूचना मिली है कि नदी में बहती हुई लाशें आ सकती हैं। इसके बाद ही पुलिस सक्रिय हो गई है। गंगा में नजरदारी शुरू कर दी गई है। अगर कोई लाश मिलती है तो सरकारी निर्देश के मुताबिक काम किया जाएगा। अलबत्ता अभी तक कोई लाश नहीं दिखी है। मानिकचक और भूतनी में ही निगाहें रखी जा रही हैं। इसके साथ ही पूरे राज्य और जिलों को इस बाबत सतर्क किया गया है। अगर गंगा में कोई शव दिखायी पड़ता है तो वे भी शासन के निर्देश के मुताबिक कार्रवाई करेंगे। इसके लिए स्पीड बोट तैयार रखा गया है। माझियों के संगठनों से भी कहा गया है। उन्होंने कहा कि परिस्थिति का मुकाबला करने को हम तैयार हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पैरेंट्स ने नहीं दिलाया कुत्ता तो बेटे ने कर ली…

विशाखापट्टनम : एक नाबालिग लड़के ने सिर्फ इसलिए खुदकुशी कर ली कि उसे माता-पिता ने घर में पालने के लिए कुत्ता लाने से मना कर आगे पढ़ें »

5000 हेल्थ अस्टिटेंट को दी जाएगी मरीजों की देखभाल की ट्रेनिंग : केजरीवाल

नई दिल्ली : राज्यों ने जानलेवा कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारी शुरू कर दी है। इसी क्रम में दिल्ली सरकार भी आगे पढ़ें »

ऊपर