बालीगंज में हारकर भी बुद्धदेव के वार्ड में जीती माकपा

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : निगम चुनाव के बाद अब उपचुनाव में भी वाममोर्चा को ऑक्सीजन मिला। बालीगंज विधानसभा उपचुनाव में प्राप्त मतों के आधार पर पार्टी दूसरे स्थान पर उभरी है। तीसरे स्थान पर रहने वाली भाजपा से माकपा काफे आगे रही। वहीं तृणमूल को पीछे छोड़ते हुए राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य के वार्ड में माकपा को जीत मिली जो मौजूदा राजनीतिक परिस्थितियों में अत्यंत अहम है। वाममोर्चा के काल में वर्ष 2006 में तृणमूल ने बालीगंज से जीत हासिल की थी। वर्ष 2011, 2016 और 2021 में भी तृणमूल को जीत मिली थी। इस बार उपचुनाव में भी तृणमूल के बाबुल सुप्रियो लगभग 20 हजार मतों से जीते और माकपा उम्मीदवार सायरा शाह हलीम दूसरे स्थान पर रहीं। बालीगंज विधानसभा के 65 नंबर वार्ड में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य रहते हैं। इस बार उस वार्ड में आगे रहना माकपा के लिए चैलेंज था और यहां से माकपा ने लीड बनायी। वार्ड 65 में तृणमूल को 10,955 वाेट मिले जबकि माकपा को 11,324 वोट मिले। वहीं कांग्रेस को 1074 और भाजपा को 3506 वोट मिले। माकपा ने इस वार्ड में तृणमूल से 369 वोटों की बढ़त बनायी। इसी तरह वार्ड नं. 64 में भी माकपा को बढ़त मिली। ऐसे में राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि बालीगंज में लगभग 45% आबादी अल्पसंख्यक मतदाताओं की है। इस कारण ही माकपा ने यहां से सोच-समझकर सायरा शाह हलीम को उम्मीदवार बनाया था जिसका कुछ हद तक लाभ भी पार्टी को मिला। वहीं वाममोर्चा का दावा है कि भाजपा के प्रति लोगों का मोह भंग होने के कारण ही भाजपा के काफी वोट माकपा के खेमे में आये हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पानीहाटी में तृणमूल कार्यालय पर बमबारी

पानीहाटी : खड़दह थाना अंतर्गत पानीहाटी के एंजेल नगर इलाके में कुछ समाज विरोधियों ने पहले बमबारी की। इसके बाद बीटी रोड मातारंगी भवन नामक आगे पढ़ें »

ऊपर